ऑडियो वायरल करना युवक को पड़ा भारी, पिटाई की जांच शुरू
ऑडियो वायरल करना युवक को पड़ा भारी, पिटाई की जांच शुरू
उत्तर-प्रदेश

ऑडियो वायरल करना युवक को पड़ा भारी, पिटाई की जांच शुरू

news

कानपुर, 23 जुलाई (हि. स.)। उत्तर प्रदेश की कानपुर पुलिस का विवादों से एक गहरा रिश्ता बनता जा रहा है। जहां पर एक बार फिर से कानपुर पुलिस सुर्ख़ियों में फिर से नजर आ रही है। पनकी थाना क्षेत्र के एक युवक को फोन द्वारा बातचीत में सब इंस्पेक्टर द्वारा अभद्रता करने का ऑडियो वायरल करना महंगा पड़ गया। तो वहीं पीडित को थाने में बुलाकर किया गया प्रताड़ित। मामला एसएसपी तक पहुंचा तो जांच हुई शुरू। पीड़ित युवक रोहित सिंह चौहान ने बताया कि उसने एक मामले में डायल 112 नंबर पर सूचना दी थी। जिसके बाद उसे थाने पर जाकर तहरीर देने को कहा गया था। जब उसने थाने में फोन मिला कर दर्ज शिकायत पर हुई कार्यवाई की जानकारी करनी चाही। तो सबइंस्पेक्टर उस पर भड़क गए और अभद्र भाषा का प्रयोग करने लगे। जिस पर युवक ने बातचीत का ऑडियो वायरल कर दिया। युवक को ये नहीं मालूम था कि वायरल ऑडियो से उसकी मुसीबत और बढ़ जाएगी। जिस पर पुलिस ने पनकी थाने में बुलाकर उसको सजा दी गई। पुलिस ने उसे बेरहमी से पीटा इतना ही नहीं रात भर पीटने के बाद धारा 151 में चालान भी कर दिया। इस प्रकरण की जानकारी एसएसपी को होने पर उन्होंने तत्काल सीओ कल्याणपुर को वायरल हो रहे ऑडियो के जांच के आदेश दे दिए थे। वहीं पुलिस के द्वारा हुए प्रताड़ित रोहित ने आरोप लगाया है कि पनकी थाना पुलिस से उसने अपनी शिकायत की जानकारी करनी चाही तो पुलिस ने उसे अभद्र भाषा का प्रयोग किया था। जिसे उसने सोशल मीडिया पर ये ऑडियो वायरल कर दिया था। उसको ये ऑडियो वायरल करना उसे महंगा पड़ जाएगा। ये उसने सोचा भी न था। उसे थाने में बुलाकर रातभर पुलिस ने प्रताड़ित किया। वही पनकी थाने में मौजूद एसओ उससे कहता रहा कि अब मेरा वीडियो वायरल करके दिखा। जिस पर नाराज पुलिस ने युवक का शांतिभंग करने के आरोप में चालान भी कर दिया। वहीं पीड़ित युवक ने मुख्यमंत्री और पुलिस विभाग के आलाधिकारियों से थाना अध्यक्ष पर कार्रवाई करने की भी गुहार लगाई है। युवक का आरोप है कि एसओ ने उसे कहा कि उसके परिजनों व दोस्तों को फर्जी मुकदमे में फंसा देंगे। कानपुर एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि पनकी थाना क्षेत्र के रोहित सिंह चौहान द्वारा वायरल किए गए ऑडियो की जांच सीओ कल्याणपुर को सौंपी गई थी। जिसमें जांच में वायरल ऑडियो में सबइंस्पेक्टर द्वारा किए गए इस व्यवहार को सत्य पाया गया है। जिसमें उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं एक ओर ये भी जानकारी मिली है कि एक शिकायत आने पर रोहित सिंह चौहान व उसके मित्र अंकित और रजत पर धारा 151 पर कार्यवाई की गई थी। जिस पर उसी दिन इनको जमानत मिल गई थी। साथ ही थाने में हुई मारपीट की जांच को लेकर उन्हें मेडिकल के लिए बुलाया गया और जांच के आने के बाद निष्पक्ष रूप से दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/हिमांशु-hindusthansamachar.in