एनसीसी कैडेट्स ने पर्यावरण के प्रति भावनाओं को चित्रों के माध्यम से कैनवास पर उकेरा
एनसीसी कैडेट्स ने पर्यावरण के प्रति भावनाओं को चित्रों के माध्यम से कैनवास पर उकेरा
उत्तर-प्रदेश

एनसीसी कैडेट्स ने पर्यावरण के प्रति भावनाओं को चित्रों के माध्यम से कैनवास पर उकेरा

news

आगरा, 19 जुलाई (हि.स.)। उत्तर प्रदेश एनसीसी निदेशालय के आह्वान पर वृक्षारोपण महाअभियान के अंतर्गत रविवार को आगरा कॉलेज एनसीसी आर्मी विंग के कैडेट्स ने पोस्टर बनाकर अपने मन की भावनाओं को कैनवास पर उकेरा। उन्होंने अपने चित्रों के माध्यम से आम जनता को यह समझाने का प्रयास किया है कि वे वृक्षारोपण को अपने जीवन का एक जरूरी कार्य मानकर चलें, तब ही हम इस धरती को आने वाले विनाश.से बचा सकेंगे। यदि हम उचित रूप से भोजन, पानी, शुद्ध वायु लेना चाहते हैं, तो हमको इनकी रक्षा करनी ही होगी। कंपनी कमांडर लेफ्टिनेंट अमित अग्रवाल ने बताया कि कैडेट्स ने अपने अपने घरों पर ही विभिन्न प्रकार के पोस्टर बनाकर उनका ऑनलाइन प्रदर्शन किया। अंडर ऑफिसर लक्ष्मी बसवराज ने अपने पोस्टर में एक वृक्ष गोद लेने की लोगों से अपील की। तनु मौर्या ने वृक्ष लगाने का आव्हान किया। समरजीत ने अपने चित्र के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया कि वृक्ष हम को ठंडक देते हैं, भोजन देते हैं, हमें इनका संरक्षण करना। कैडेट अनामिका ने अपने पोस्टर में बनाए हुए चित्र के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया कि वृक्षारोपण हमारे जीवन को जीने लायक बनाता है, इसलिए "सेव ट्री- सेव वाटर एंड सेव अर्थ"। कैडेट रोशनी सागर ने अपने अच्छे स्वास्थ्य, अच्छे वातावरण और प्राकृतिक सुंदरता के लिए वृक्ष लगाने पर जोर दिया। कैडेट अंजलि ने अपने पोस्टर में वृक्षारोपण को पशु पक्षियों और पर्यावरण से जोड़ा। दिलीप यादव ने अपने चित्र में पृथ्वी बचाओ का नारा दिया। कैडेट चेतन कुमार व भूपेंद्र सिंह ने अपने मन की भावनाओं को कागज पर चित्र के माध्यम से प्रदर्शित किया। कैडेट प्रियंका, अमित कुमार एवं दीपक कुमार आदि ने भी अपने चित्रों में पर्यावरण संरक्षण हेतु पौधारोपण की आवश्यकता प्रदर्शित करते हुए बताया "टेक केयर ऑफ ट्री-दे विल टेक केयर ऑफ यू"। इसके अतिरिक्त कैडेट्स ने अपने मोहल्ले एवं गांव में पौधारोपण अभियान जारी रखा। लोगों को पौधे वितरित कर उन्हें अपने घर में लगाने तथा संरक्षित करने का भी अपील की। हिन्दुस्थान समाचार/संजीव/दीपक-hindusthansamachar.in