उप्र में सत्ता के संरक्षण में चल रहा अवैध शराब का कारोबार : अखिलेश
उप्र में सत्ता के संरक्षण में चल रहा अवैध शराब का कारोबार : अखिलेश
उत्तर-प्रदेश

उप्र में सत्ता के संरक्षण में चल रहा अवैध शराब का कारोबार : अखिलेश

news

-कहा, मुख्यमंत्री के बड़बोलेपन के बावजूद जहरीली शराब के धंधे की दोगुनी रफ्तार लखनऊ, 21 नवम्बर (हि.स.)। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार को जनसामान्य के स्वास्थ्य और जीवन की कोई चिंता नहीं है। प्रदेश में अवैध शराब का कारोबार सत्ता के संरक्षण में चल रहा है। उन्होंने शनिवार को कहा कि मुख्यमंत्री के बड़बोलेपन के बावजूद जहरीली शराब का धंधा दोगुनी रफ्तार से चल रहा है। अब तक कई लोग जहरीली शराब पीकर अपनी जान गंवा बैठे हैं। शराब माफियाओं के हौसले इतने बढ़े हुए हैं कि वे सरकारी कायदे कानूनों को ठेंगा दिखाते हुए तस्करी और अवैध शराब की बिक्री खुलेआम कर रहे हैं। अखिलेश ने कहा कि सच तो यह है कि प्रदेश में पुलिस और आबकारी विभाग की जानकारी में ही अवैध ढंग से शराब की तस्करी और जहरीली शराब बनाने और बेचने का काम हो रहा है। फूलपुर कोतवाली क्षेत्र में देशी शराब के ठेके से शराब ले जाकर पीने से इमलिया गांव के सात लोगों की मौते हो गई, कई ग्रामीणों की हालत गम्भीर है। बाराबंकी के कोठी थाना क्षेत्र में भाजपा नेता ने उधार शराब न देने पर सेल्समैन की पिटाई कर दी। कई ठेके भाजपा नेताओं ने ले रखे हैं। वे भी जल्दी माल कमाने के फेर में दिखाई देते है। बाराबंकी में 12 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब पीकर हापुड़ कोतवाली क्षेत्र में 12 लोगों की मौत हुई। सहारनपुर में 64 मौतें हुई जबकि फिरोजाबाद में 2 लोग मरे। प्रयागराज के फूलपुर क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से 6 लोगों की मौत हो गई। इटावा, रामपुर, जालौन में भी भी मौतें हुई है। नकली जहरीली शराब पीकर मौतों का यह सिलसिला बदस्तूर जारी है। पहले भी कई दर्दनाक घटनाएं हो चुकी हैं। लेकिन, कोई इनसे सबक नहीं लेता है। सपा अध्यक्ष ने कहा किभाजपा सरकार की संवेदनहीनता की हद है कि नकली शराब के धंधेबाजों पर नकेल कसने में वह अब तक गम्भीर नहीं हुई है। इस सरकार ने नकली शराब के सिंडीकेट को खत्म करने की दिशा में ठोस कदम नहीं उठाए हैं। आबकारी और पुलिस विभाग के रहते देशी शराब के सरकारी ठेकों पर जहरीली शराब की बिक्री जघन्य अपराध है। सरकार को इसमें विभागीय संलिप्तता की भी जांच कर कठोर कार्रवाई करनी चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/दीपक-hindusthansamachar.in