उप्र में सड़क दुर्घटनाएं रोकने के लिए बनेगी नई योजना
उप्र में सड़क दुर्घटनाएं रोकने के लिए बनेगी नई योजना
उत्तर-प्रदेश

उप्र में सड़क दुर्घटनाएं रोकने के लिए बनेगी नई योजना

news

लखनऊ, 01 अगस्त (हि.स.)। परिवहन विभाग विश्व बैंक के सहयोग से प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए नई योजना बनाएगा। इसके लिए परिवहन आयुक्त धीरज साहू ने दिशा निर्देश जारी कर दिया है। इसके मुताबिक प्रदेश में सड़क हादसों को रोकने के लिए पांच साल का नया प्लान तैयार किया जाएगा। इस प्लान पर करीब 40 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके लिए अलग-अलग क्षेत्रों से 06 परामर्शदाता 15 अगस्त तक नियुक्त किए जाएंगे। ये परामर्शदाता सड़क सुरक्षा से जुड़े हर पहलुओं को तैयार करके लागू करवाएं और उसकी निगरानी भी करेंगे। परामर्शदाताओं के जरिए ही इंजीनियरिंग और प्रबन्धन क्षेत्र से विशेषज्ञ नियुक्त किए जाएंगे। ताकि सड़क हादसों से जुड़े हर पहलू पर एक्शन प्लान तैयार हो सके। सड़क हादसों को रोकने के लिए तैयार एक्शन प्लान के जरिए जागरूता कार्यक्रम पर विशेष जोर दिया जाएगा। व्यावसायिक वाहन चालकों के लिए विशेष प्रशिक्षण शिविर की स्थापना की जाएगी। प्रदेश के 05 शहरों में 25 करोड़ की लागत से ऑटोमैटिक ड्राइविंग ट्रैक की स्थापना की जाएगी। इन शहरों में वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर, मेरठ और झांसी शामिल हैं। अपर परिवहन आयुक्त अरविन्द पाण्डेय ने शनिवार को बताया कि परिवहन विभाग सड़क हादसों को रोकने के लिए पूरी तैयारी के साथ नया एक्शन प्लान बनाएगा। इसके जरिए सड़क हादसों को रोकने के लिए जागरूकता कार्यक्रम पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि परिवहन विभाग की तरह परिवहन निगम ने भी सड़क हादसों को रोकने के लिए सात बिन्दुओं के आधार पर खाका तैयार किया है। इसके अनुसार लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे पर ए श्रेणी की रोडवेज बसें चलायी जाएंगी। इनके संचालन और निगरानी के लिए उड़नदस्तों की तैनाती एक्सप्रेस वे पर की जाएगी। इसके अलावा ए श्रेणी की बसों में ऐसी चालकों-परिचालकों की ड्यूटी लगायी जाएगी, जिन्हें पांच साल के सुरक्षित संचालन का बेहतर अनुभव हो। हिन्दुस्थान समाचार/दीपक/संजय-hindusthansamachar.in