उप्र में बेटिया सुरक्षित नहीं, सरकार ने दरिंदों के सामने किया आत्मसमर्पण: अखिलेश
उप्र में बेटिया सुरक्षित नहीं, सरकार ने दरिंदों के सामने किया आत्मसमर्पण: अखिलेश
उत्तर-प्रदेश

उप्र में बेटिया सुरक्षित नहीं, सरकार ने दरिंदों के सामने किया आत्मसमर्पण: अखिलेश

news

लखनऊ, 17 अक्टूबर (हि.स.)। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के रहते बहन-बेटियों की सुरक्षा नहीं हो सकती है क्योंकि इस सरकार ने दरिंदों के सामने आत्मसमर्पण कर रखा है। उन्होंने कहा कि सत्ताधीशों का दिल भले न पिघले, पोस्टमार्टम के बाद बाराबंकी की बेटी का शरीर देखकर डॉक्टरों के भी होश उड़ गए। विचलित डॉक्टरों ने कहा ऐसा मामला पहले नहीं देखा। जाहिर है उत्तर प्रदेश ‘बर्बर हत्या प्रदेश‘ में बदल गया है और खूनी खेल बेलगाम हो गया है। अखिलेश ने शनिवार को अपने बयान में कहा कि भाजपा सरकार की पुलिस पर कोई कैसे भरोसा करे जबकि कन्नौज के सौरिख थाना में दारोगा ने छेड़छाड़ पीड़ित से अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया। ऐसे में किसे न्याय मिल सकता है। बलात्कार और हत्याओं की फेहरिश्त ही दिल दहलाती है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार और उसकी पुलिस पर लोगों का भरोसा उठ रहा है इसलिए हाथरस काण्ड के पीड़ित अब उत्तर प्रदेश में नहीं रहना चाहते हैं। वे अपने मुकदमे भी उत्तर प्रदेश से बाहर ले जाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जब हालात इतने हृदयविदारक हों तब मुख्यमंत्री जी का नवरात्र के शक्ति पर्व से नारी शक्ति की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलम्बन के लिए विशेष अभियान चलाने की बात करने का औचित्य क्या है? रोमियो स्क्वाड तो जन्म से ही विवादित रहा, 1090 और यूपी डायल 100 जैसी व्यवस्थाओं को भी भाजपा सरकार ने इसलिए निष्प्रभावी बना दिया क्योंकि उनकी शुरूआत समाजवादी सरकार ने की थी। अब प्रत्येक जनपद में 100 रोल माडल चुने जाने की भी घोषणा है। अब तक जो मुख्यमंत्री जी और उनकी सरकार कानून व्यवस्था का एक कलपुर्जा नहीं दुरुस्त कर पाई वह आगे किसी को क्या सुरक्षा देगी। हर मोर्चे पर विफल, कलंकपूर्ण भाजपा सरकार को अब प्रदेश और जनता के हित में गद्दी छोड़ देनी चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in