उप्र: कोरोना के सक्रिय मामले घटकर हुए 34,420, रिकवरी दर 90.93 प्रतिशत
उप्र: कोरोना के सक्रिय मामले घटकर हुए 34,420, रिकवरी दर 90.93 प्रतिशत
उत्तर-प्रदेश

उप्र: कोरोना के सक्रिय मामले घटकर हुए 34,420, रिकवरी दर 90.93 प्रतिशत

news

-बीते चौबीस घंटे में 2,880 नए मामले आए सामने, 3,528 मरीज हुए स्वस्थ -छात्रों को बुलाने के लिए दबाव डालने वाले कॉलेजों पर ऐपिडेमिक एक्ट के तहत होगी कार्रवाई लखनऊ, 17 अक्टूबर (हि.स.)। प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या अब घटकर 34,420 हो गई है। राज्य में 17 सितम्बर को संक्रमण उच्च स्तर पर था, तब 68,235 सक्रिय मामले थे। इसकी तुलना में सक्रिय मामलों में अब 49.56 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि इसके बावजूद सरकार ने लोगों से कोरोना बचाव को लेकर पूरी तरह से नियमों का पालन जारी रखने को कहा है। वहीं 19 अक्टूबर से 09वीं से 12वीं तक के स्कूल खुलने को लेकर सख्त हिदायत दी गई है कि छात्र-छात्राओं को बुलाने के लिए किसी प्रकार का दबाव न डाला जाए। अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने शनिवार को बताया कि अगर किसी स्कूल-कॉलेज की शिकायत आती है तो उस पर एपिडेमिक एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। अब तक 4.11 लाख मरीज इलाज के बाद हो चुके हैं स्वस्थ उन्होंने बताया कि बीते चौबीस घंटे में संक्रमण के 2,880 नये मामले सामने आए हैं। इसी दौरान 3,528 मरीज स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए गए। इसके साथ ही राज्य में अब तक कुल 4,11,611 मरीज इलाज के बाद पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। मरीजों के तेजी से ठीक होने की वजह से रिकवरी दर अब 90.93 प्रतिशत हो गई है। वहीं राज्य में संक्रमित लोगों में से अब तक कुल 6,629 लोगों की मृत्यु हुई है। बीते चौबीस घंटे में 40 मौतें हुई हैं। 4,715 पूल के जरिए 26,720 नमूनों की हुई जांच उन्होंने बताया कि शुक्रवार को 4,715 पूल के जरिए 26,720 नमूनों की जांच की गई। इनमें 4,086 पूल के जरिए प्रति पूल पांच-पांच नमूनों की जांच की गई, जिसमें 324 पूल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। वहीं 629 पूल के जरिए प्रति पूल दस-दस नमूनों की जांच की गई, जिसमें 39 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। अब तक कुल 1.28 करोड़ कोरोना नमूनों की हुई जांच अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने बताया कि शुक्रवार को प्रदेश में एक दिन में कुल 1,62,471 सैम्पल की जांच की गयी। वहीं प्रदेश में अब तक कुल 1,28,41,878 सैम्पल की जांच की गयी है। 15,831 मरीजों का होम आइसोलेशन में चल रहा इलाज उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में कुल सक्रिय मरीजों में से 15,831 लोग होम आइसोलेशन यानि घर पर रहकर इलाज की सुविधा का लाभ ले रहे हैं। इसके अलावा अन्य मरीज निजी अस्पतालों व शेष राज्य सरकार की एल-1, एल-2 व एल-3 की व्यवस्था के तहत सरकारी अस्पतालों में भर्ती हैं। अब तक 2,51,519 मरीजों ने होम आइसोलेशन की सुविधा का विकल्प लिया है, जिनमें से 2,35,688 मरीजों के इलाज का समय पूरा होने के बाद उन्हें डिस्चार्ज घोषित कर दिया गया है। 13.44 करोड़ लोगों के बीच पहुंची स्वास्थ्य टीमें स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगातार विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के बीच पहुंचकर सर्वेश्रण कर रही हैं। अभी तक 1,42,139 इलाकों में 4,22,827 टीमों ने 2,72,57,478 करोड़ घरों का सर्वेक्षण किया है। इसके तहत 13,44,09,734 करोड़ से अधिक लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग की गई है। पांच जनपदों के लोगों ने ई-संजीवनी का सबसे ज्यादा किया प्रयोग इसके साथ ही ई-संजीवनी पोर्टल का प्रदेश के लोग लगातार इस्तमाल कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में इस पोर्टल का सबसे ज्यादा दैनिक उपयोग किया जा रहा है। इस पोर्टल से घर बैठे डॉक्टरों से सलाह ले सकते हैं। शुक्रवार को 2,717 लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया। अब तक कुल 1,45,207 लोग इस पोर्टल के जरिए चिकित्सीय लाभ ले चुके हैं। प्रदेश में मेरठ, जालौन, रायबरेली, प्रयागराज और बहराइच के लोगों ने सबसे ज्यादा ई संजीवनी का इस्तेमाल किया है। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in