उन्नावः हाईप्रोफाइल धरने के बाद बैकफुट पर आए ‘‘सदर विधायक‘‘
उन्नावः हाईप्रोफाइल धरने के बाद बैकफुट पर आए ‘‘सदर विधायक‘‘

उन्नावः हाईप्रोफाइल धरने के बाद बैकफुट पर आए ‘‘सदर विधायक‘‘

उन्नावः हाईप्रोफाइल धरने के बाद बैकफुट पर आए ‘‘सदर विधायक‘‘ - महिला थाने की भूमि पर कब्जेदारों को गिरफ्तार किए जाने से नाराज थे विधायक - प्रसाशन व विधायक में हुआ समझौता, कार्यकर्तोओ में पसरा सन्नाटा उन्नाव,30 जुलाई (हि.स) (अपेडट)। जिला प्रशासन ने शहर कोतवाली क्षेत्र के आदर्शनगर मोहल्ला में महिला थाना निर्माण के लिए भूमि स्वीकृत कर रखी है। मंगलवार को भूमि पर कब्जेदारी की सूचना मिलने पर पहुंचे अस्पताल चौकी प्रभारी ने छानबीन की थी। पुलिस ने चार नामितों समेत तीस अज्ञात लोगों पर सरकारी भूमि पर कब्जा करने की कोशिश समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था। बुधवार की देर जांच पड़ताल में जुटी पुलिस ने नामित आरोपितों को हिरासत में लेकर कोतवाली ले आई। उधर, सूचना मिलते ही सदर विधायक अपने चार दर्जन समर्थकों के साथ शहर कोतवाली पहुंच पुलिस पर वृद्ध से मारपीट का आरोप लगाते हुए धरने पर बैठ गए। प्रदर्शन के दौरान डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने के बात पर विधायक़ व समर्थक पुलिस के विरुद्ध पूरी रात नारेबाजी करते रहे। भोरपहर डीएम व एसपी ने कोतवाली पहुंच कर दोषियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने के बाद मामला शांत हो सका। शहर के आदर्शनगर मोहल्ला में महिला थाना की निर्माणाधीन सरकारी भूमि पर कब्जेदारी को लेकर मंगलवार को अस्पताल चौकी प्रभारी रामजीत यादव ने चार नामित व तीस अज्ञात लोगों के विरुद्ध केस दर्ज किया गया था। अधिकारियों के आदेश पर अस्पताल चैकी प्रभारी ने मामले से संबंधित सात लोगों को हिरासत में लेकर कोेतवाली लेकर आई। उधर, सूचना पर सदर विधायक पंकज गुप्ता अपने चार दर्जन समर्थक के साथ कोतवाली पहुंच गए। विधायक का आरोप था कि पकड़े गए वृद्ध के साथ पुलिस कर्मियों ने मारपीट की है। उन्होंने कहा कि जिले की पुलिस की निरंकुश व्यवस्था से परेशान होकर मजबूरन धरने पर बैठना पड़ा। सीओ यादुवेन्द के पहुंचने पर विधायक ने निष्पक्ष कार्रवाई की मांग की और कहा कि पुलिस बुजुर्गों के खिलाफ गलत कार्रवाई और मारपीट कर रही है। मामला बढ़ने पर विधायक व उनके कार्यकर्ताओं ने सीओ सिटी पर गंभीर आरोप लगा पूरी रात नारेबाजी करते हुए डीएम व एसपी को मौके पर बुलाए जाने की बात पर अड़े रहे। मामला बढ़ने पर रात आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस शहर कोतवाली पहुंच गई। देर रात एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडेय ने कोतवाली पहुंच विधायक समेत कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, मगर सभी डीएम और एसपी को मौके पर बुलाए जाने की मांग करते रहे। भोरपहर पांच बजे डीएम रविंद्र कुमार व एसपी रोहन पी कनय ने शहर कोतवाली पहुंच सदर विधायक से बातचीत और आश्वासन दिया कि जांच करवा कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। दोनो अधिकारियों के आश्वासन के मामला शांत हो गया और सभी कोतवाली से रवाना हो गए। सीएम से बात कर उठाऊंगा विस में प्रश्न विधायक ने कहा कि कार्यकर्ताओं व आम आदमी को वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस प्रताड़ित कर रही है। पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीकांत कटियार से भी पुलिस कर्मियों ने अभद्रता की थी। जिले की पुलिस सपा मानसिकता के तहत काम कर रही है। कहा कि पूरे मामले को सीएम को अवगत करा विधानसभा में प्रश्न उठाऊंगा। कई थानों को फोर्स रहा मौजूद विधायक के कोतवाली में धरने पर बैठने की सूचना पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। वायरलेस सेट पर मैसेज पास होते ही एएसपी विनोद कुमार पांडेय, सीओ सिटी यादवेंद्र समेत माखी, अचलगंज, अजगैन, गंगाघाट, हसनगंज की पुलिस मौके पर पहुंच गई। तीन घंटे तक कोतवाली में धरना प्रदर्शन के बाद मामला शान्त होते ही पुलिस रवाना हो गई। पुलिस से इन पर की कार्रवाई पुलिस ने लोक सम्पति क्षति निवारण अधिनियम के तहत सात लोगों समेत दो दर्जन अज्ञात पर कार्रवाई की है। इंदिरानगर मोहल्ला निवासी सुरेन्द्र कुशवाहा, कृष्ण बहादुर सिंह, अमित कुमार यादव, सरयू प्रसाद यादव, अशोक कुमार प्रजापति, दिनेश कुमार शुक्ल और गोविन्द्र प्रताप सिंह यादव को अस्पताल चैकी प्रभारी पकड़ कर कोतवाली लाए थे। पुलिस ने सभी आरोपितों को कोर्ट पेश किया है। तेरह घंटे चली कशमकश, तीस मिनट में यूर्टन देररात एक बजे से शुरू हुए मामले ने गुरूवार दो बजकर पचास मिनट पर यूर्टन ले लिया। सोशल मीडिया पर सूचना विभाग द्वारा सूचना दी गई कि डीएम, एसपी व विधायक तीन बजे प्रेस वार्ता करेगें। वार्ता के दौरान डीएम ने कहा कि विधायक देररात कोतवाली पहुंचे थे और स्थानीय पुलिस से वार्ता की थी। कहा कि अब किसी प्रकार का विधायक व पुलिस में कोई विवाद नही है। उधर, विधायक ने कहा कि हमें जनता ने जनप्रतिनिधि के रूप में चुना है। फीडबैक के आधार पर हम कार्यकर्ताओ के साथ कोतवाली पहुंचे थे। उन्होनें कहा कि मैं कोतवाली धरना देने के लिए नही गया था। कहा कि जिला प्रशासन से वार्ता के बाद अब किसी प्रकार का कोई विवाद नही है। विधायक के द्वारा रात भर कोतवाली में किए गए धरना प्रदर्शन के बाद गुुरूवार को जिला प्रशासन व विधायक द्वारा सयुंक्त रूप से की कई प्रेस वार्ता में यू-र्टन लिए जाने के बाद लोगो में तरह-तरह की चर्चाएं होती रही। कितने बजे क्या हुआ.. -1.00 बजे पुलिस नामित आरोपित को उठाकर कोतवाली लाई। - 2.00 बजे सदर विधायक व कार्यकर्ता कोतवाली में धरने पर बैठ गए। -2ः30 बजे जिले की कई थानों का पुलिस मौके पर पहुंच गई। -3.00 बजे कार्यकताओं ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करना शुरू कर दिया। -3ः58 बजे पर एससपी विनोद कुमार पांडेय कोतवाली पहुंचे। -4.05 बजे पर एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडेय ने विधायक से वार्ता की। -5.00 बजे डीएम व एसपी कोतवाली पहुंचे। -5ः12 बजे अधिकारियों के बातचीत के बाद धरना खत्म। -5ः14 बजे सदर विधायक व कार्यकर्ता कोतवाली से बाहर निकले। -2ः50 गुरूवार को सोशल मीडिया पर प्रेसवार्ता की जानकारी दी गई। -3 बजे शुरू हुई प्रेस वार्ता, डीएम, एसपी व विधायक रहे मौजूद। -3ः20 पर प्रेस वार्ता हुई खत्म। हिन्दुस्थान समाचार/अरूण कुमार दीक्षित/मोहित-hindusthansamachar.in

Last updated