आर्यावर्त बैंक के प्रबंधक के खिलाफ डीएम ने दिये एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश
आर्यावर्त बैंक के प्रबंधक के खिलाफ डीएम ने दिये एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश
उत्तर-प्रदेश

आर्यावर्त बैंक के प्रबंधक के खिलाफ डीएम ने दिये एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश

news

- बैंकों की जिलास्तरीय सलाहकार व समन्वयक समिति की समीक्षा बैठक में डीएम ने प्रबंधकों को लगाई फटकार हमीरपुर, 14 अक्टूबर (हि.स.)। आर्यावर्त बैंक की टेढ़ा शाखा में स्वयं सहायता समूह के खाता खोलने में टालमटोल करने और समूहों के सदस्यों को परेशान कर उत्पीडऩ करने के मामले में बुधवार को यहां जिलाधिकारी ने शाखा के प्रबंधक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक स्वयं सहायता समूहों का गठन कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाना सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकता में शामिल है इसलिये स्वयं सहायता समूहों का उत्पीडऩ करने और उनके खाते खोलने में लापरवाही किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं की जायेगी। जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी आज यहां हमीरपुर स्थित कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में बैंकों की जिलास्तरीय सलाहकार व समन्वयक समिति की बैठक में समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार समर्थित योजनाओं में सहयोग न करने वाले बैंकर्स पर कार्यवाही हेतु उनके संबंधित मुख्यालय में पत्राचार किया जायेगा। ऋण स्वीकृति के पश्चात खाते में धनराशि डिस्बर्स की जाए। कहा कि स्वरोजगार हेेतु एक जिला एक उत्पाद योजना शासन की प्राथमिकता में शामिल है अतः जिन बैंक/ब्रांचो में फाइलें पेंडिंग है उनमें कमियों को दूर कर लोन स्वीकृत कराया जाए तथा सभी फाइलों का स्टेटस बताया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया सहित अन्य बैंकों द्वारा सरकार समर्थित विभिन्न योजनाओं में लोन स्वीकृत किया जाय, इसमें कोई लापरवाही न बरती जाए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में लक्ष्य के अनुसार प्रगति प्राप्त की जाए। जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री ग्राम रोजगार योजना की समीक्षा कर अधिक से अधिक जरूरत मंद लोगों को इस योजना के तहत लोन दिलाने के निर्देश दिए। किसान क्रेडिट कार्ड/मत्स्य कार्ड/डेयरी कार्ड के अंतर्गत लोन दिए जाने की समीक्षा में जिलाधिकारी ने कहा कि पत्रावलियों की पेंडेंसी को शीघ्र निस्तारित किया जाए तथा आवेदन करने वाले सभी पात्र लोगों को लोन दिलाया जाए। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत लघु उद्योग/स्वरोजगार हेतु दिए जाने वाले ऋणों में धीमी प्रगति पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की तथा तत्काल इस योजना से पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि (स्वनिधि) योजना में लक्ष्य प्राप्त करने के निर्देश दिए। इस योजना में आवेदन करने वाले पात्र सभी लोगों को ऋण दिलाया जाए। एनआरएल के अंतर्गत स्वयं सहायता समूह की समीक्षा में जिलाधिकारी ने कहा कि समूहों का सीसीएल खाते शीघ्र खोले जाएं। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी कमलेश कुमार वैश्य, उपायुक्त स्वतः रोजगार कमलेश कटियार, उपनिदेशक कृषि जेएम श्रीवास्तव, समाज कल्याण अधिकारी, एलडीएम अन्य संबंधित अधिकारी व बैंकर्स मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/मोहित-hindusthansamachar.in