आरोपितो के परिजन आमरण अनशन पर बैठे, दी चेतावतनी
आरोपितो के परिजन आमरण अनशन पर बैठे, दी चेतावतनी
उत्तर-प्रदेश

आरोपितो के परिजन आमरण अनशन पर बैठे, दी चेतावतनी

news

बिहार रेपपीड़िता के भतीजे का अपरहण मामला.................. आरोपितो के परिजन आमरण अनशन पर बैठे, दी चेतावनी - अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के जिलाध्यक्ष की अगुवाई में निराला प्रेक्षाग्रह में धरने पर बैठे परिजन उन्नाव,18 अक्टूबर (हि.स)। रेपपीड़िता के भतीजे के अपरहण मामले में जेल गए आरोपितो के परिजन रविवार को अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के जिलाध्यक्ष की अगुवाई में डीएम कार्यालय के सामने स्थित निराला प्रेक्षागृह परिसर में अनिश्चित काल के लिए आमरण अनशन पर बैठ गए। सूचना पर एएसपी, एसडीएम, सीओ सिटी समेत भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गया। अधिकारियो ने परिजनो को समझाया और आश्वासन दिया कि उनकी मांगे शासन तक पहुंचाई जाएंगी। आमरण अनशन समाप्त करने पर परिजनो ने चेतावनी दी कि यदि एक सप्ताह में नारको टेस्ट कराने की कार्रवाई नहीं की गई तो वह मजबूर होकर विधानसभा के सामने आमरण अनशन व आत्मदाह करने के लिए बाध्य होगें। अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के जिलाध्यक्ष आशुतोष त्रिपाठी उर्फ विजय त्रिपाठी की अगुवाई में रविवार को बिहार थाना क्षेत्र की रहने वाली रेपपीड़िता के भतीजे के अपरहण मामले में जेल गए आरोपितो के परिजन निराला प्रेक्षागृह परिसर में अनिश्चित काल के लिए आमरण अनशन पर बैठ गए। परिजनो ने कहा कि बीते वर्ष गांव की रहने वाली एक युवती के परिजनों ने उसके पूरे परिवार के लोगों के विरुद्ध साजिशन गैंगरेप व युवती को जिंदा जला कर मौत के घाट उतारने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज करा जेल भेजवा दिया था। उसके बाद दो अक्टूबर को उस युवती के भतीजे के लापता होने के आरोप में उनके परिवार की महिलाओं समेत पांच लोगों के विरुद्ध बच्चे का अपहरण करने का आरोप लगाते हुए बिहार थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई और महिलाओं व अन्य आरोपियों को जेल भेजवा दिया। आमरण अनशन में बैठे परिजनो ने कहा कि साजिशन उसके पूरे परिवार का उत्पीड़न किया जा रहा है और फर्जी मुकदमे लिखा कर जेल भेजा जा रहा हैं। पूरे मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग उठाई है। उधर, आमरण अनशन पर बैठने की जानकारी होते ही जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। सूचना पर एएसपी विनोद कुमार पांडेय, एसडीएम अक्षत वर्मा, सीओ गौरव कुमार त्रिपाठी, शहर कोतवाल दिनेश चंद्र मिश्र समेत भारी संख्या में पुलिस बल पहुंच गया। अधिकारियों ने परिजनो को समझाया बुझाया और आश्वासन दिया कि उनकी जो भी मांगे होंगी वह शासन तक पहुंचाई जाएंगी। परिजनो ने पूरे परिवार को जेल भेजवाने वाले, लापता बच्चे के पूरे परिवार का नारको टेस्ट कराने की मांग उठाई है। चेतावनी दी कि यदि एक सप्ताह में नारको टेस्ट कराने की कार्रवाई नहीं की गई तो वह मजबूर होकर विधानसभा के सामने आमरण अनशन व आत्मदाह करने के लिए बाध्य होगें। हिन्दुस्थान समाचार/अरूण कुमार दीक्षित-hindusthansamachar.in