आईजीआरएस पोर्टल वरिष्ठ नागरिक के लिए हुआ मददगार साबित
आईजीआरएस पोर्टल वरिष्ठ नागरिक के लिए हुआ मददगार साबित
उत्तर-प्रदेश

आईजीआरएस पोर्टल वरिष्ठ नागरिक के लिए हुआ मददगार साबित

news

वरिष्ठ नागरिक प्रताप सिंह को मण्डलायुक्त ने दिलाया न्याय कासगंज 12 सितंबर (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना से समूचा विश्व ही प्रभावित है। संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए समझदार लोग अनावश्यक घरों से बाहर नही निकल रहे हैं। कुछ ऐसी ही समझदारी मूल रूप से जनपद कासगंज के गंगागढ़ निवासी जोकि वर्तमान में दिल्ली में अपने परिवार के साथ रहते हैं, प्रताप सिंह ने दिखाई। उन्होंने आईजीआरएस के माध्यम से मुख्यमंत्री को सम्बोधित पत्र में अपनी व्यथा लिखते हुए बताया कि उनकी आयु लगभग 65 साल है। कोविड-19 संक्रमण के बचाव और सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस के चलते वह घर में ही परिवारीजनों के साथ समय व्यतीत कर रहे हैं। उनके ग्राम गंगागढ़ में उनका ढाई बीघा का बाग है, जिसमें कुछ दबंगों श्रीपाल पुत्र सत्यदेव साहू एवं तेजपाल पुत्र दीप चन्द्र साहू द्वारा 8 पेड़ चोरी से काट कर ट्रेक्टर में ले गए हैं। कोविड संक्रमण के चलते वह न तो अपने ग्राम गंगागढ़ आ सकते हैं और न ही किसी अधिकारी के सम्मुख उपस्थित होकर अपनी फरियाद सुना सकते हैं। ऐसे में आईजीआरएस के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज करा रहे हैं कि दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाई करते हुए उनके हुए नुकसान का हर्जाना दिलाया जाय। मण्डलायुक्त जी.एस. प्रियदर्शी ने शिकायत का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी कासगंज को प्रताप सिंह की शिकायत की प्राथमिकता से जाँच कराकर उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। चूँकि मामला सीधा वन विभाग से जुड़ा हुआ था। जिलाधिकारी सी.पी. सिंह के निर्देश पर प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी ने क्षेत्रीय वन अधिकारी से जांच कराते हुए जिलाधिकारी के माध्यम से बताया कि प्रताप सिंह द्वारा की गई जाँच सही पाई गई है और दोनों अभियुक्तों के विरुद्ध अभियोग दर्ज करते हुए मुकदमा पंजीकृत किया गया है। प्रताप सिंह ने मण्डलायुक्त द्वारा कराई गई कार्यवाही से संतुष्ट होकर कहा है कि योगी सरकार के प्रति उनका विश्वास बढ़ा है। हिन्दुस्थान समाचार/ पुष्पेंद्र/मोहित-hindusthansamachar.in