आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में वामपंथी संगठन भी सड़क पर उतरे
आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में वामपंथी संगठन भी सड़क पर उतरे
उत्तर-प्रदेश

आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में वामपंथी संगठन भी सड़क पर उतरे

news

वाराणसी,14 दिसम्बर (हि.स.)। केन्द्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में आन्दोलन कर रहे किसानों के समर्थन में वामपंथी संगठनों के कार्यकर्ता भी सड़क पर उतर आये है। सोमवार को जॉइंट एक्शन कमेटी के बैनर तले लंका स्थित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के सिंहद्यार पर जुटे विभिन्न संगठनों से जुड़े कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में धरना दिया। धरना में शामिल कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ लिखी तख्तियां भी लहराई। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने कहा कि किसान बिल पूरी तरह किसान विरोधी है। केन्द्र की मोदी सरकार खेती किसानी में पूंजीपतियों को ला रही है। आवश्यक वस्तुओं के भंडारण में छूट देकर सरकार पूंजीपतियों की मदद कर रही है। जो इसे बड़े मुनाफे पर बेचेंगे। ओम शुक्ला, रजत, धनंजय, विवेक कुमार सिंह ने कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए सरकार से इसे वापस लेने की मांग की। अन्य कार्यकर्ताओं ने गेहूं, धान के साथ साथ सब्जी फल आदि की भी न्यूनतम खरीद मूल्य तय करने,बीज, खाद, कृषि उपकरण, पानी और बिजली के बढ़े हुए दाम वापस लेने, छोटे व लघु किसानों को मनरेगा से जोड़ने,कृषि को कोआपरेटिव मॉडल से जोड़े जाने की आवाज बुलन्द की। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in