अलग-अलग जगहों पर सपाइयों ने बेरोजगारी दिवस मना पुलिस को छकाया
अलग-अलग जगहों पर सपाइयों ने बेरोजगारी दिवस मना पुलिस को छकाया
उत्तर-प्रदेश

अलग-अलग जगहों पर सपाइयों ने बेरोजगारी दिवस मना पुलिस को छकाया

news

- जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर कटोरा और थाली लेकर जताया विरोध कानपुर, 17 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्म दिवस जहां भाजपाई सेवा सप्ताह के रुप में मना रहे हैं तो वहीं विपक्ष बेरोजगारी दिवस के रुप मना विरोध दर्ज करा रहा है। इसी के चलते सपा कार्यकर्ताओं ने शहर के अलग-अलग जगहों पर प्रधानमंत्री के जन्म दिवस को बेरोजगारी दिवस के रुप में मना पुलिस को जमकर छकाया। कई जगहों पर तो पुलिस ने सपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार भी किया, हालांकि कुछ देर बाद छोड़ दिया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस को बेरोजगारी दिवस के रुप में मनाने के लिए सपा कार्यकर्ताओं ने पहले से ही तैयारी कर ली थी। सपा कार्यकर्ता एक जगह पर विरोध करने के बजाय शहर के अलग-अलग प्रमुख चौराहों को चुना और पुलिस भी इस कदर विरोध को नहीं समझ पायी। सपा कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर थाली और कटोरा लेकर रोजगार की भीख मांगी और केन्द्र व प्रदेश सरकार को रोजगार विरोधी बताया। नगर अध्यक्ष डा. इमरान ने कहा कि भाजपा सरकार अपने कुछ उद्योगपतियों का ही ख्याल रख रही है और देश व प्रदेश का नौजवान बेरोजगार हो रहा है। पूर्व नगर अध्यक्ष मोइन खान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हर वर्ष दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, पर रोजगार तो दे नहीं सके उल्टा गलत आर्थिक नीतियों के कारण बेरोज़गारी अपने चरम पर पहुँच गई। फजल महमूद ने कहा कि देश के इतिहास में ऐसी बेरोजगारी कभी नहीं थी जैसी इस मोदी सरकार के दौरान देखी जा रही है। कलेक्ट्रेट के साथ सपाइयों ने सचान चौराहा, गुरुदेव चौराहा, किदवई नगर चौराहा आदि में भी विरोध प्रदर्शन किया। एक साथ अलग-अलग जगहों पर हुए विरोध प्रदर्शन को लेकर पुलिस भी परेशान दिखी और कई जगहों पर पुलिस ने कुछ देर के लिए सपाइयों को गिरफ्तार भी किया। लाल इमली चौराहा पर सपा महिला सभा ने किया विरोध समाजवादी पार्टी महिला सभा के तत्वाधान में आज लाल इमली चौराहा महिला सभा की अध्यक्ष दीपा यादव की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस पर कटोरा लेकर भीख मांगकर बेरोजगारी दिवस मनाया। इस अवसर पर महिला सभा की अध्यक्ष दीपा यादव ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार की उदासीनता व निष्क्रियता के कारण देश की इण्डस्ट्रीज व कारखाने बन्द होने के कारण देश में लगातार बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। आज देश से रोजगार के अवसर समाप्त हो गये हैं। पढ़े लिखे नौजवान रोजगार पाने के लिए अपनी डिग्रियां लेकर भटक रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विगत लोकसभा चुनाव हर वर्ष दो करोड नौजवानों को रोजगार देने के वादे से मुकर गये हैं। देश में नये कारखाने व इण्डस्ट्रीज न लगने के कारण आज देश बेरोजगारी चरम सीमा पर है। महिलाओं को घर परिवार चलाने के लिए विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। इस दौरान दीपिका मिश्रा, शर्मिला हैसले, अनीता लायल, सरिता मिश्रा, नीलम उत्तम, शर्मीली आदि महिलाएं उपस्थित रहीं। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित-hindusthansamachar.in