अपराध के मामले में उत्तर प्रदेश ने किया भारत में टॉप - जी0सी0 दिनकर
अपराध के मामले में उत्तर प्रदेश ने किया भारत में टॉप - जी0सी0 दिनकर
उत्तर-प्रदेश

अपराध के मामले में उत्तर प्रदेश ने किया भारत में टॉप - जी0सी0 दिनकर

news

- गैंगरेप पीड़िता के परिजनों ने मिलने पंहुचा बसपा का प्रतिनिधि मंडल चित्रकूट,15 अक्टूबर (हि.स.)। पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ बसपा नेता गया चरण दिनकर ने गुरुवार को चित्रकूट जिले के खरौंध गांव के मजरा कैमहापुरवा पहुंच कर गैंगरेप के बाद आत्महत्या करने वाली दलित किशोरी के परिजनों से मुलाकात की। इस मौके पर पूर्व मंत्री ने पीड़ित परिजनों को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाते हुए कहा कि निलम्बन कोई सजा नहीं है। गैैंग रेप के मामले को दबाने वाले दरोगा और कोतवाल के विरूद्ध अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार अधिनियम एवं अन्य सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर जेल भेजा जाना चाहिए। प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए पूर्व नेता प्रतिपक्ष दिनकर ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अपराधों की बाढ़ आ गई है। महिलाएं और अबोध बालिकाएं सुरक्षित नही है। अपराध के मामले में उत्तर प्रदेश पूरे भारत में टाप किया है। कहा कि अपराधों को रोक पाना और कानून का राज स्थापित कर पाना मुख्यमंत्री के बस की बात नहीं रह गई है। कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मठ-मंदिर को चलाने में तो माहिर हो सकते हैं,लेकिन राजकाज चलाने मेें फेल साबित हुए है। ऐसे में उनको अपने पद से त्यागपत्र देकर प्रदेश की जनता पर रहम करना चाहिए। आपको बता दे कि, चित्रकूट जिले के खरौंध गांव के मजरा कैमहा में बीती 8 अक्टूबर को नाबालिक दलित किशोरी के साथ गैंगरेप की वारदात हुई थी। इसके बाद पीडित किशोरी ने आरोपी दबंगों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर मायूस होकर आत्महत्या कर ली थी। इस मामले को पूर्व मुख्यमंत्री एवं बसपा मुखिया मायावती ने गंभीरता से लिया है। बसपा मुखिया के निर्देश पर गुरूवार को पूर्व मंत्री गया चरण दिनकर के नेतृत्व में पूर्व विधायक चंद्रभान सिंह, वरिष्ठ नेता कौशलेंद्र कुमार, रामलखन निषाद एवं जिलाध्यक्ष शिवबाबू वर्मा आदि नेताओं के प्रतिनिधि मंडल ने पीड़ित के परिजनों से मुलाकात कर दलित किशोरी के साथ हुई अमानवीय घटना की वस्तुस्थिति का जायजा लिया। इस मौके पर पूर्व मंत्री गया चरण दिनकर ने बताया कि पीड़ित परिजनों से घटना के सम्बंध में बात की गई।जिससे पता चला कि कक्षा 9 में पढ़ने वाली छात्रा को गांव के सामंतशाही सोच के लोग पकड़ कर वन विभाग की नर्सरी ले गये थे। इसके बाद उसका हाथ-पैर बांधकर गैंग रेप किया। इसके बाद पीड़ित को नर्सरी में ही फेंक कर चले गये। बताया कि काफी खोजबीन के बाद जब रेप पीड़िता परिजनों को मिली तो परिजनों द्वारा जिले के सरैया चैकी पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस की मौजूदगी में पीडिता किशोरी के हाथ-पैर खोले गये। इसके बावजूद सरैंया चौकी पुलिस द्वारा कार्रवाई करने की बजाय मामला कर्वी कोतवाली के क्षेत्र का बताकर गैंगरेप की शिकार दलित किशोरी और उनके परिजनों को लौटा दिया गया। इसके बाद आरोपी दबंगों को बचाने के लिए चौकी पुलिस सौदेबाजी में उतर आयीं। वहीं पुलिस से न्याय मिलने की उम्मीद खोकर मायूस किशोरी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पूर्व मंत्री ने कहा कि यदि पीड़िता आत्महत्या न करती तो पुलिस गैंगरेप के मामले को दबा देती। उन्होंने पुलिसियां कार्रवाई पर सवाल खडे करते हुए कहा कि इतने गंभीर मामले को दबाने वाले सरैंया चैकी प्रभारी और कर्वी कोतवाल के विरूद्ध एससी/एसटी अत्याचार अधिनियम एवं अन्य सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर जेल भेजा जाना चाहिए।पूर्व मंत्री गया चरण दिनकर ने कहा कि योगी सरकार में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। महिलाएं बालिकाएं सुरक्षित नहीं है। अबोध बालिकाओं के साथ सामूहिक दुराचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश के बाराबंकी, आगरा, कौशांबी,लखीमपुर और हरदोई आदि जनपदों में हुई गैगरेप की घटनाओं ने काननू व्यवस्था की पोल खोल दी है। पूर्व मंत्री ने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार का मुखिया सामंतशाही अपराधी अपराधी किस्म के लोगों को संरक्षण देने में जुटा हुआ है। ऐसे में अपराध नियंत्रण कैसे होगा। कहा कि जब से सूबे में भाजपा की सरकार बनी है। समाज का हर तबका दिनो-दिन बढ़ते अपराधों से त्रस्त है। अपराध के मामलों में यूपी में भारत में टॉप किया है। इस मौके पर पूर्व विधायक चंद्रभान सिंह पटेल, वरिष्ठ नेता कौशलेंद्र कुमार, रामलखन निषाद, जिलाध्यक्ष शिवबाबू वर्मा, दरबारी लाल वर्मा, इकराम वर्मा, महेश सिंह पटेल आदि बसपाई मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/रतन/मोहित-hindusthansamachar.in