युवा प्रोफेशनल व्यापारियों ने उठाया हर धर्म, जाति एवं सम्प्रदाय के कोविड पॉजिटिव व्यक्तियों-जरुरतमंदों के भोजन व्यवस्था का बीड़ा

युवा प्रोफेशनल व्यापारियों ने उठाया हर धर्म, जाति एवं सम्प्रदाय के कोविड पॉजिटिव व्यक्तियों-जरुरतमंदों के भोजन व्यवस्था का बीड़ा
young-professional-businessmen-took-up-the-task-of-providing-food-to-the-needy-people-of-all-religions-castes-and-communities

बीकानेर, 13 मई (हि.स.)। विश्वव्यापी कोविड-19 कोरोना महामारी के चलते इन दिनों बीकानेर में कोरोना वायरस की दूसरी लहर कहर ढा रही है। अस्पतालों में भर्ती पॉजिटिव मरीजों को बेड, आक्सीजन व दवा के साथ-साथ दोनों वक्त के पौष्टिक, शुद्ध व घर जैसे भोजन की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। अस्पतालों में बेड, आक्सीजन व दवा को तो सरकारी तंत्र पूरा करने में दिन रात एक कर जुटा हुआ है। रही बात पौष्टिक, शुद्ध व घर जैसे भोजन की तो इसका बीड़ा शहर के कुछ युवा, व्यापारियों एवं प्रोफेशनल जिनमें डॉ अशोक धारणिया, रवि प्रकाश सोनी, विनोद कुमार सोनी, सीए कैलाश बिश्नोई एवं सीए प्रदीप छल्लानी आदि मिलकर 'अलौकिक फाउण्डेशन ट्रस्ट' के जरिये उठा रहे है। ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ अशोक धारणिया ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव रोगियों के लिए ट्रस्ट द्वारा संचालित माँ अन्नपूर्णा नि:शुल्क भोजन सेवा में पौष्टिक, शुद्ध एवं घर जैसा पैक्ड नि:शुल्क भोजन नगरीय क्षेत्र की किसी भी अस्पताल एवं घर तक फ्री डिलीवरी करवाया जा रहा है। इसके लिए रोगियों को ट्रस्ट द्वारा जारी दो मोबाइल नंबर क्रमश: 8561004001 एवं 8561004002 पर अपनी डिटेल नोट करवाकर अपना आधार कार्ड व कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट एक दिन पूर्व रात्रि 9:00 बजे तक वाट्सअप पर भेजनी होगी ताकि रोगियों को समय पर उनके बताये स्थान पर भोजन डिलीवर हो सके तथा भोजन व्यर्थ भी न जाए। ट्रस्ट में माँ अन्नपूर्णा प्रकल्प के प्रभारी रवि प्रकाश सोनी 'नोखा' ने बताया कि बीकानेर नगरीय क्षेत्र में रह रहे किसी भी धर्म, जाति एवं सम्प्रदाय के कोविड पॉजिटिव व्यक्तियों के लिए नि:शुल्क भोजन की यह व्यवस्था शुद्ध, सात्विक एवं पूर्णतया जैन रहेगी। माँ अन्नपूर्णा प्रकल्प के सह प्रभारी विनोद कुमार सोनी ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति अपनी पॉजिटिव रिपोर्ट की दिनांक से 10 दिनों तक सुबह व शाम नि:शुल्क भोजन की सेवा ट्रस्ट से प्राप्त कर सकते है। उन्होंने बताया कि इस महामारी से शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्र भी अछूता नहीं रहा है। आज कोरोना मरीजों की तबीयत बिगडऩे पर बीकानेर नगरीय क्षेत्र के साथ-साथ दूरदराज ग्रामीण क्षेत्र से कोविड पॉजिटिव मरीज बीकानेर शहर की विभिन्न अस्पतालों में अपने ईलाज के लिए भर्ती हो रहे है तथा शहर के सैंकड़ों पॉजिटिव व्यक्ति भी अपने घर पर ही आईसोलेट होकर इलाज ले रहे है। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/Sandeep

अन्य खबरें

No stories found.