औषधीय पौध तैयारी की सूचना पोर्टल पर अपलोड करें अधिकारी

औषधीय पौध तैयारी की सूचना पोर्टल पर अपलोड करें अधिकारी
upload-the-information-of-medicinal-plant-preparation-on-the-portal

जयपुर, 11 जून (हि.स.)। घर-घर औषधि योजना क्रियान्वयन समिति की बैठक शुक्रवार को प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन-बल प्रमुख श्रुति शर्मा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में शर्मा ने वन विभाग के प्रधान मुख्य वन संरक्षक, अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक और मुख्य वन संरक्षकों के साथ योजना की अब तक की प्रगति पर चर्चा की। बैठक में शर्मा ने सभी मुख्य वन संरक्षकों को निर्देशित किया कि घर-घर औषधि योजना के तहत तैयार किए जा रहे औषधीय पौधों की सूचना नियमित रूप से पोर्टल पर अपलोड की जाए। उन्होंने एफएमडीएसएस की सूचना भी पोर्टल पर लगातार अपडेट करने के आदेश दिए। बैठक में मुख्य वन संरक्षकगण को निर्देशित किया गया कि उनके नियंत्रण में आने वाले जिलों में जिला टास्क फोर्स की बैठक शीघ्र पूरी कराई जाए। प्रत्येक जिले में पौध वितरण की रणनीति राज्य के विभिन्न विभागों के साथ मिलकर तैयार की जाए। आमजन तक जानकारी पहुंचाने के लिए प्रत्येक जिले में पदस्थापित आयुर्वेद विभाग के अधिकारियों के साथ पूर्ण समन्वय स्थापित करते हुए लोगों को जागरूक करने की व्यवस्था की जाए। बैठक में यह भी निर्देशित किया गया कि प्रत्येक वन मंडल में उप वन संरक्षक शीघ्रता पूर्वक प्रत्येक पौधशाला का निरीक्षण करें और यथा आवश्यकता वन विभाग के प्रत्येक कर्मचारी को तुलसी, कालमेघ, अश्वगंधा और गिलोय को उगाने और रख-रखाव में प्रशिक्षित करें। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (विकास) डॉ. दीप नारायण पाण्डेय ने मुख्य वन संरक्षकों से अपने अधीनस्थ जिलों की नर्सरियों में तैयार हो रहे औषधीय पौधों की जानकारी लेते हुए इस दौरान आ रही समस्याओं पर चर्चा की। उन्होंने बताया कि इन दिनों तापमान की अधिकता के चलते नर्सरियों में औषधीय पौधों के अंकुरण में थोड़ी-बहुत परेशानी हो सकती है। इससे बचने के लिए नर्सरियों में छाया और पर्याप्त सिंचाई पानी की व्यवस्था की जाए ताकि अंकुरण के समय औषधीय पौधों को नुकसान न पहुंचे। इसके अलावा उन्होंने अब तक तैयार हो चुके पौधों की जानकारी जल्द से जल्द उपलब्ध करवाने के निर्देश देते हुए वन विभाग के सोशल मीडिया प्लेटफॉम्र्स का उपयोग करने की भी आवश्यकता जताई। अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक अरिजीत बनर्जी ने विस्तृत रूप से प्रचार-प्रसार के संबंध में जानकारी प्रदान की और प्रत्येक अधिकारी से इस पर अपना योगदान दिए जाने के लिए आह्वान किया। अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक मनीष गर्ग ने मॉनिटरिंग और इवेलुएशन के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए पूर्व में प्रसारित निर्देशों पर सुझाव आमंत्रित किए ताकि एक पुख्ता और उपयोगी मॉनिटरिंग व्यवस्था स्थापित की जा सके। बैठक के दौरान मुख्य वन संरक्षकों द्वारा बताई समस्याओं का समाधान मौके पर ही सुझाया गया। इस अवसर पर अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक (विकास) अरिंदम तोमर सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर