अनूठी छूट: वैक्सीन का सर्टिफिकेट दिखाओ, 500 रुपये की छूट पाओ

अनूठी छूट: वैक्सीन का सर्टिफिकेट दिखाओ, 500 रुपये की छूट पाओ
unique-discount-show-vaccine-certificate-get-rs500-off

उदयपुर, 09 जून (हि.स.)। आपने खरीदारी के दौरान अब तक तरह-तरह की छूट और आफर के बारे में सुना होगा, लेकिन लेकसिटी उदयपुर के इन व्यवसायियों द्वारा अनूठी छूट से उनके प्रति आपका सम्मान और बढ़ जाएगा। जी हां, लेकसिटी के व्यापारियों ने कोरोना के संकटकाल से जूझते हुए भी देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए विशेष आफर दिया है और वह है, ‘वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिखाओ, 500 रुपये की छूट पाओ’। गौरतलब है कि राजस्थान में लाॅकडाउन 8 जून से ही खुला और पहले ही दिन से कुछ दुकानदारों ने इसी आफर के साथ इस मिनी अनलाॅक में शुरुआत की। उदयपुर के जाने-माने बापू बाजार में रेडिमेड परिधानों का व्यवसाय करने वाले इन व्यापारियों ने विशेष तौर पर यह छूट वैवाहिक खरीदारी के मद्देनजर दी है। छूट देने वाले प्रतिष्ठानों का उदयपुर में नाम है और अब उनकी इस पहले ने उन्हें और चर्चा में ला दिया है। बापू बाजार स्थित ‘संस्कृति’ प्रतिष्ठान के भरत सिंघवी बताते हैं कि शादी के लिए सूट और शेरवानी की खरीद पर 500 रुपये की छूट का प्रावधान किया गया है, लेकिन इसके लिए खरीदार को कोरोना वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट दिखाना होगा। इसी तरह, बापू बाजार में ही स्थित रेडिमेड पैलेस ने भी छूट दी है। प्रतिष्ठान के अनुराग मेहता बताते हैं कि वे इस तरह कम से कम कोरोना जागरूकता अभियान का हिस्सा बने हैं। व्यवसायी इस देश की अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण अंग हैं तो देश पर आए संकट में भी हर वक्त साथ खड़े रहते हैं। इसी के मद्देनजर वैक्सीनेशन अभियान में अपनी ओर से छोटे से योगदान से आमजन में जागरूकता के लिए उन्होंने यह कदम बढ़ाया है। बापू बाजार के ही ‘अभिलाषा’ प्रतिष्ठान के विजय सपरा बताते हैं कि उन्होंने भी ऐसी ही छूट दी है। इससे खरीदार को भी कोरोना के संकटकाल में 500 रुपये की छूट भले ही छोटी हो सकती है, लेकिन इसके पीछे कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जागरूकता का पवित्र उद्देश्य जुड़ा है। हमारी पहल से कुछ नागरिक भी प्रेरित होते हैं तो हमारी पहल सफल है। जाहिर है कि कोरोना के संकटकाल से गुजर रहे स्थानीय व्यवसायियों को अपनी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में समय लगेगा, लेकिन इस दौरान भी अपने लाभांश में से कुछ कोरोना जागरूकता को समर्पित करना उनके प्रति सम्मान की भावना बढ़ाएगा ही। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीता कौशल/संदीप