ऑक्सीजन की सेंट्रल लाइन सप्लाई में बाधा से जेएलएन में दो मरीजों की मौत

ऑक्सीजन की सेंट्रल लाइन सप्लाई में बाधा से जेएलएन में दो मरीजों की मौत
two-patients-died-in-jln-due-to-obstruction-of-oxygen-central-line-supply

अजमेर, 22 मई(हि.स.)। अजमेर के जेएलएन अस्पताल के चिकित्सा कर्मी तत्परता नहीं दिखाते तो 21 मई की रात को ऑक्सीजन की कमी से दो से ज्यादा मरीजों की मौत हो जाती। चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने ली घटना की जानकारी। अजमेर संभाग के सबसे बड़े जवाहर लाल नेहरू अस्पताल में मौजूदा समय में भी 500 से भी ज्यादा कोरोना संक्रमित मरीज भर्ती हैं। इनमें से 20 से ज्यादा मरीज वेंटीलेटर पर हैं। अस्पताल में अजमेर ही नहीं आसपास के जिलों का खासकर नागौर के मरीज भी भर्ती हैं। प्रत्यक्षदर्शियों और अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों के अनुसार 21 मई को रात साढ़े बारह बजे अस्पताल के कोविड वार्ड (ट्रामा) में ऑक्सीजन की सेंट्रल लाइन में गड़बड़ी हो गई। इससे अनेक मरीजों के ऑक्सीजन का फ्लो कम हो गया, कई मरीजों का ऑक्सीजन सैचुरेशन 20 तक आ गया। इससे पूरे अस्पताल में हड़बड़ी मच गई। चिकित्सा कर्मियों ने तुरंत ही अनेक मरीजों के ऑक्सीजन सिलेंडर लगाए ताकि उनकी जान बचाई जा सके। इतनी तत्परता दिखाने के बाद भी देहली गेट निवासी भगवती देवी और नागौर के परबतसर निवासी संतोष की मृत्यु हो गई। परिजनों का कहना है कि यदि चिकित्सा कर्मी तत्परता नहीं दिखाते तो इससे ज्यादा भी मौते हो सकती थी। हालांकि यह घटना 21 मई की रात को करीब डेढ़ बजे की है, लेकिन घटना के 12 घंटे बाद भी अस्पताल प्रशासन घटना पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सका। इससे मामला और उलझ रहा है। कोरोना संक्रमण में जब लोगों की मृत्यु ज्यादा हो रही है तब ऑक्सीजन की वजह से दो जनों की मृत्यु होना बेहद गंभीर है। जानकार सूत्रों के अनुसार घटना की गंभीरता को देखते हुए ही प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने जानकारी ली है। रघु शर्मा ने जानना चाहा कि सेंट्रल लाइन में ऑक्सीजन के प्रवाह में गड़बड़ी कैसे हुई? क्या इस मामले में कोई लापरवाही बरती गई? अस्पताल के चिकित्सा अधिकारियों ने अपने नजरिए से मंत्री को जवाब दिया है, लेकिन इस घटना को बेहद गंभीर माना जा रहा है। जांच कराकर दोषियों के खिलाफ की जाए कार्रवाई पूर्व शिक्षा मंत्री व विधायक अजमेर उत्तर वासुदेव देवनानी ने कहा है कि जवाहर लाल नेहरू अस्पताल के कोविड वार्ड में शुक्रवार की देर रात ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा आने से दो मरीजों के दम तोड़ने के मामले में सरकार को एक्सपर्ट कमेटी से जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा आने के कारण वार्ड 28 की भाजपा पार्षद भारती जांगिड़ की भी मृत्यु हो गई थी। पिछले दस दिन के भीतर ऑक्सीजन सप्लाई में बाधा आने से मरीजों के दम तोड़ने का यह दूसरा मामला है, जो बेहद गंभीर, चिंताजनक, शर्मनाक और अमानवीय है। सरकार, अस्पताल प्रशासन और जिला प्रशासन को इसकी ओर तुरंत प्रभाव से ध्यान देना चाहिए। विधायक भदेल ने मुख्यमंत्री के नाम दिया ज्ञापन.. अजमेर दक्षिण विधायक एवं पूर्व महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल ने शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन अजमेर जिलाधीश को सौपा। विधायक भदेल ने बताया कि अजमेर के जवाहर लाल नेहरु चिकित्सालय में ऑक्सीजन सप्लाई प्रभावित होने एवं फ्लक्चुएशन के कारण आए दिन मरीजों की मृत्यु होना चिकित्सालय प्रशासन की लापरवाही को दर्शाता है। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/ ईश्वर

अन्य खबरें

No stories found.