Sukh: Photograph of schools in Badli district during the Corona transition period
Sukh: Photograph of schools in Badli district during the Corona transition period
राजस्थान

सुखद : कोरोना संक्रमण काल में बदली जिले के स्कूलों की तस्वीर

news

धौलपुर, 09 जनवरी (हि.स.)। समूचे विश्व सहित देश और प्रदेश को अपनी चपेट में लेने वाले कोरोना ने अपनी मौजूदगी से कोहराम मचा दिया है। सामान्य जनजीवन प्रभावित हो रहा है और कामकाज से लेकर जीवन के विभिन्न पहलू प्रभावित हुए बिना नहीं रह सके हैं। कोरोना के दुष्परिणाम के चलते विद्या का मंदिर कहे जाने वाले स्कूलों में बच्चों की आवाजाही और नियमित पढाई बंद है। लेकिन कोरोना का एक सुखद परिणाम यह भी रहा है कि अब स्कूलों की तस्वीर बदलने लगी है। रंगाई और पुताई के बाद में स्कूलों की इमारत चमक रहीं हैं,वहीं नई थीम बनाई गई है। कोरोना काल के बाद में स्कूल खुलने पर नई थीम नौनिहालों के ज्ञानवर्धन का आधार बनेगी। धौलपुर जिले के सरकारी स्कूलों में इन दिनों बदलाव की बयार बह रही है। स्कूलों में रंगाई पुताई की गई है। इसके साथ ही स्कूलों की दीवारों पर जागरुकता और राष्ट्रप्रेम की इबारत भी लिखी गई है। धौलपुर के एदलपुर स्कूल में हाल ही में की गई रंगाई पुताई से स्कूल का लुक बदल गया है। प्रधानाध्यापक हफीज खान ने बताया कि स्कूल को नया लुक देने में करीब चालीस हजार रुपए की राशि खर्च हुई है। स्कूल में पानी के लिए समर्सीबल पंप की व्यवस्था और शौचालय के निर्माण से सुविधाएं बढीं हैं। एदलपुर की तरह ही धौलपुर के बीलपुर,विशनोंदा, सूरजपुरा,पुरानी छावनी, गल्र्स स्कूल,महाराणा और दरियापुर समेत बाडी,बसेडी,सैपउ और सरमथुरा ब्लाकों में भी स्कूलों में निर्माण,मरम्मत,रंगाई,पुताई तथा अन्य संसाधनों की उपलब्धता बढी है। जिले के स्कूलों तथा शिक्षा विभाग की काया पलट के सूत्रधार बने डीएम आरके जायसवाल बताते हैं कि कोरोना काल में बच्चे स्कूल नहीं आ रहे हैं। लेकिन स्कूलों में छात्रहित के काम अपने चरम पर हैं। सरकारी स्कूलों में किचन गार्डन,आत्मरक्षा प्रशिक्षण तथा पोषाहार का वितरण किया जा रहा है। स्कूलों में बिजली के कनेक्शन कराए गए हैं तथा पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। इसके अलावा स्कूलों की इमारतों में नई नई थीम बनाईं गई हैंं। इनमें स्कूल के कमरों को रेल के डिब्बे का लुक,दीवारों पर वन एवं पर्यावरण की थीम तथा अन्य उपयोगी स्लोगन लिखवाए गए हैं। इसके अलावा स्कूलों की दीवारों पर अब दैनिक प्रार्थना,ईश वंदना,स्काउट प्रतिज्ञा, राष्ट्रगान एवं वंदेमातरम जैसी उपयोगी इबारत लिखी गई है। नीति आयोग से मिली धनराशि से विकास के काम हो रहे हैं। इसके अलावा स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था,बिजली के कनेक्शन,कम्पयूटर लैब की पुर्नस्थापना जैसे कई उपयोगी कार्य किए जा रहे हैं। धौलपुर के मुख्य ब्लाक शिक्षा अधिकारी दामोदर लाल मीणा ने बताया कि कोरोना काल में नौनिहालों की पढाई का नुकसान ना हो,इसके लिए शिक्षा विभाग द्वारा स्माईल टू कार्यक्रम के तहत बच्चों की आन लाईन कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। वहीं, शिक्षकों के व्यावसायिक कौशल में बढोतरी के लिए निष्ठा का प्रशिक्षण चल रहा है। इस प्रशिक्षण के जरिए शिक्षक समुदाय शिक्षण की नई विधा अर्जित कर रहा है,जो भविष्य में बच्चों को नवीनतम तकनीकी से लैस करने में सहायक सिद्व होगी। कोरोना काल में आपदा को अवसर बनाते हुए शिक्षा विभाग ने कई नवाचार किए हैं। भले ही नियमित कक्षीय शिक्षण कार्य बंद है,लेकिन बच्चों की पढाई बदस्तूर जारी है। कोशिश यही है कि नौनिहालों की शिक्षण व्यवस्था में कोई कमी ना रहे। हिन्दुस्थान समाचार / प्रदीप-hindusthansamachar.in