राज्य सरकार ने नहीं लगाया ऑक्सीजन प्लांट

राज्य सरकार ने नहीं लगाया ऑक्सीजन प्लांट
state-government-did-not-set-up-oxygen-plant

झुंझुनू,22 मई(हि.स.)। सांसद नरेंद्र कुमार खीचड़ ने कहा कि तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण प्रथम चरण के दौरान केंद्र सरकार द्वारा राज्य के सभी जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए राशि दी गई थी। लेकिन राज्य सरकार ने लापरवाही बरतते हुए कहीं पर भी ऑक्सीजन प्लांट नहीं लगाया। जिसके चलते ऑक्सीजन की भारी किल्लत से कोरोना के बड़ी तादात में मरीज मृत्यु का ग्रास बन गए। भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होंने बताया कि पहले चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाया गया था जिसमें पूर्णतः कड़ाई बरती गई थी। लेकिन अब दूसरे चरण में राज्य सरकार द्वारा जो लॉकडाउन लगाया गया है उसमें पूर्णतया लापरवाही बढ़ती जा रही है। जिससे कोरोना मरीजों पर कंट्रोल नहीं हो पा रहा है। सांसद ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकार को सभी अस्पतालों में वेंटीलेटर व अन्य चिकित्सा उपकरण भेजे गए थे। जिन्हें निजी अस्पतालों में किराए पर देकर लोगों के प्राणों के साथ खिलवाड़ रहा है। भाजपा जिलाध्यक्ष पवन मावण्डिया ने कहा कि कोरोना काल में सबसे महत्वपूर्ण विषय चिकित्सा एवं स्वास्थ्य है लेकिन राज्य में उसकी व्यवस्था पूर्णतया चरमराई हुई है। राज्य की कॉंग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री सहित समस्त प्रतिनिधि सीएचसी पीएचसी में कोविड-19 के ईलाज होने की बात कह रहे हैं लेकिन यह मात्र कागजों तक सीमित है। राज्य सरकार चिकित्सा सेवाओं का ढोल पीट रही है कि वे घर-घर दवा पहुंचा रहे हैं। मरीजों की जांच हो रही है। लेकिन यह सब गलत है। ऑक्सीजन सिलेंडर, बेड या जांच यह मात्र बयानबाजी तक सीमित है इसके अलावा कुछ भी नहीं है। आमजन में गलत भ्रांतियां पैदा कर कांग्रेस व विपक्षी दलों ने लोगों को वैक्सीन नहीं लगने दी जिसका खामियाजा आज प्रदेश व पूरा देश भुगत रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश सर्राफ / ईश्वर