seema-jan-kalyan-samiti-has-raised-awareness-shekhawat
seema-jan-kalyan-samiti-has-raised-awareness-shekhawat
राजस्थान

सीमा जन कल्याण समिति ने जगाई जागरुकता की अलख: शेखावत

news

जोधपुर 21 अप्रैल (हि.स.)। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने सीमा जन कल्याण समिति के स्थापना दिवस पर शुभकामनाएं देते हुए कहा कि राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और खुशहाली में समिति ने अभूतपूर्व भूमिका निभाई है। तीन दशकों में न केवल राजस्थान अपितु गुजरात, पंजाब और जम्मू समेत कई राज्यों की सीमा पर भी जागरुकता की अलख जगाई है। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने बुधवार को अपने संदेश में कहा कि आजादी के समय जो आप्रकृतिक विभाजन देश का हुआ, उस विभाजन के नाते, अनेक तरह की चुनौतियां और समस्याएं सीमावर्ती क्षेत्र में धीरे-धीरे बढऩे लगीं। कलांतर में यह क्षेत्र अंतरराष्ट्र्रीय गतिविधियों का बनकर उभरने लगा, लेकिन राष्ट्र्रवादी सोच रखने वाले सोहन सिंह, लक्ष्मण सिंह और प्रो. शारदा शरण सिंह की दूरदृष्टि सोच का परिणाम था कि सीमावर्ती क्षेत्र के नागरिकों में जो दोहरी जिम्मेदारी का भाव उनके हृदय में होना चाहिए, उसके सृजन के लिए सीमा जन कल्याण समिति की कल्पना की गई। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि लगभग तीन दशक बीत जाने के बाद हम निश्चित रूप से कह सकते हैं कि देश की अन्य सीमाओं की तुलना में यदि राजस्थान की सीमाएं शांत और सुरक्षित हैं तो उसमें बहुत बड़ा योगदान सीमा जन कल्याण समिति का भी है। उन्होंने कहा कि थल सीमा पर सीमा जन कल्याण समिति या अन्य किसी नाम से सीमावर्ती क्षेत्र में आज ऐसे संगठन प्रभावी रूप से काम कर रहे हैं। देश की सीमाएं सुरक्षित हों, आमजन में उत्तरायित्व का भाव हो, इसके लिए ये सभी संगठन लगातार प्रयास कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सतीश / ईश्वर