रक्षाबंधन पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग
रक्षाबंधन पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग
राजस्थान

रक्षाबंधन पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग

news

जोधपुर, 30 जुलाई (हि.स.)। सावन माह की पूर्णिमा के दिन रक्षाबंधन का पवित्र पर्व मनाया जाता है। इस बार का रक्षाबंधन 3 अगस्त को मनाया जाएगा। इस बार भाई बहन के प्रेम का प्रतीक यह त्योहार बहुत ही खास होने वाला है। इस बार सावन माह में पूरे पांच सोमवार हैं, राखी का त्योहार भी सावन के आखिरी सोमवार के दिन पड़ रहा है, साथ ही इस बार के रक्षा बंधन पर एक खास संयोग बन रहा है। रक्षा बंधन के दिन इस बार सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग बन रहा है। यह संयोग पूरे 29 वर्षों के बाद बन रहा है। सर्वार्थ सिद्धि योग में हर मनोकामना पूर्ण होती है तो वहीं दीर्घायु योग में आयु लंबी होने की कामना पूरी होती है। साथ ही इस दिन सोमवार भी है। यह भी बहुत शुभ संयोग है कि सावन को सोमवार पूर्णिमा के दिन पड़ रहा है। इस दिन चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में होता है और शनि और सूर्य ग्रह का सप्तक योग भी बन रहा है। इससे आयु में वृद्धि होती है। इस राखी पर बनने वाला योग सभी 12 राशियों के लिए शुभ है। रक्षाबंधन के दिन यानि 3 अगस्त को सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक भद्रा काल रहेगा। इस समय राखी नहीं बांधनी चाहिए। कहा जाता है कि रावण की बहन ने भद्रा काल में ही रावण को राखी बांधी थी, जिसके कारण रावण का विनाश हो गया। राखी का पर्व सुबह 9.30 बजे से आरंभ होगा। दोपहर में 1.35 बजे से लेकर शाम को 4.35 बजे तक का समय राखी बांधने के लिए अति शुभ है। इसके बाद शाम को 7.30 बजे से 9.30 बजे तक राखी बांधने के लिए मुहूर्त शुभ रहेगा। हिन्दुस्थान समाचार/सतीश/ ईश्वर-hindusthansamachar.in