रोडवेज प्रबंधन ने बंद किया अनुबंध पर ली गई बसों का संचालन

रोडवेज प्रबंधन ने बंद किया अनुबंध पर ली गई बसों का संचालन
roadways-management-stopped-the-operation-of-buses-taken-on-contract

अजमेर, 07 मई(हि.स.)। प्रदेश सहित जिले भर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोग घरों में कैद है, जिसके चलते रोडवेज बसों में यात्री भार कम होने की वजह जहां रोडवेज ने अपनी बसों का संचालन कम किया तो वहीं राजस्व घाटे को देखते हुए अनुबंध पर ली गई बसों का भी संचालन बंद कर दिया गया। अजमेर केंद्रीय रोडवेज बस स्टैंड के स्टेशन इंचार्ज रोमेश यादव ने बताया कि कोरोना महामारी में बढ़ते संक्रमण के चलते यात्री भार कम हो गया है, अजमेर जिले से बाहर आने जाने में लोग डर रहे हैं। लिहाजा जहां उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा अजमेर रेलवे स्टेशन से आने जाने वाली कई यात्री गाडियों को रद्द कर दिया गया तो वहीं राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम ने भी अनुबंध पर ली हुई बसों का संचालन बंद कर दिया है। यादव ने बताया कि यात्री भार कम होने की वजह से दूसरे प्रदेशों को जाने वाली बसों को भी स्थगित किया गया है। वहीं अजमेर व अजयमेरु आगार द्वारा बसों का संचालन किया जा रहा है, लेकिन रोडवेज को राजस्व का काफी घाटा हो रहा है, ऐसे में यात्री भार नहीं होने के चलते बसों का संचालन रद्द किया जा रहा है। मोक्ष कलश लेकर निशुल्क हरिद्वार जाने को भी अभी तैयार नहीं लोग कोरोना महामारी का डर इतना है कि मोक्ष कलश लेकर हरिद्वार जाने के लिए भी लोग अभी तैयार नहीं हो रहे हैं जबकि राज्य सरकार की मोक्ष कलश योजना 2020 के तहत् राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम ने पहल करते हुए नियमित एक्सप्रेस बस में हरिद्वार जाने व आने के लिए मोक्ष कलश के साथ दो यात्रियों को निशुल्क यात्रा की अनुमति दी है। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक राजेश्वर सिंह के अनुसार राजस्थान सरकार की मोक्ष कलश योजना 2020 के तहत् एक अस्थि कलश के साथ हरिद्वार जाने आने के लिये परिवार के दो सदस्यों को राजस्थान सरकार द्वारा रोडवेज की नियमित एक्सप्रेस बस सेवा में निशुल्क यात्रा उपलब्ध करायी गई है। सभी जिला मुख्यालय से हरिद्वार के लिये एक्सप्रेस बस सेवा संचालित की जाती है। सिंह ने बताया कि राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की वेबसाईट पर ऑनलाइन पंजीयन किया जा सकेगा। अजमेर केंद्रीय बस स्टैंड पर ड्यूटी इंचार्ज गौतम प्रकाश ने बताया कि सरकार और रोडवेज प्रशासन की ओर से उन्हें आदेश मिल चुके हैं। जैसे ही 23 मोक्ष कलश के पात्र लोग रजिस्ट्रेशन करा लेंगे उन्हें बस से हरिद्वार भेज दिया जाएगा। यात्रा आने और जाने के लिए पूरी तरह निशुल्क रहेगी। मोक्ष कलश ले जाने वाले व्यक्ति को मृत्यु प्रमाण पत्र और आधार कार्ड अपने साथ रखना है। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/संदीप