बरकतुल्ला खां स्टेडियम में बीस करोड़ की लागत से जीर्णोद्धार कार्य शुरू

बरकतुल्ला खां स्टेडियम में बीस करोड़ की लागत से जीर्णोद्धार कार्य शुरू
restoration-work-started-at-barkatullah-khan-stadium-at-a-cost-of-20-crores

जोधपुर, 11 जून (हि.स.)। सूर्यनगरी के छीतर पत्थर से निर्मित देश के इकलौते बरकतुल्लाह खान स्टेडियम के कायाकल्प का कार्य शुरू हो गया है। अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनाने की दिशा में यह अहम कदम माना जा रहा है। बीस करोड़ की लागत से स्टेडियम का जीर्णोद्धार कार्य तेजी के साथ शुरू कर दिए गए है। स्टेडियम के साउथ ब्लॉक को पूरी तरह से तोडक़र नया बनाया जाएगा। वहीं नॉर्थ ब्लॉक में अलग से पवेलियन का निर्माण किया जाएगा। साथ ही मैदान व पिच की मिट्टी को पूरी तरह से खोद दिया गया है। इसे नए सिरे से संवारा जाएगा। अगले वर्ष से यह स्टेडियम आईपीएल के साथ ही अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाएगा। आरसीए के अध्यक्ष वैभव गहलोत इस पद पर काबिज होने के बाद से लगातार प्रयास कर रहे थे कि स्टेडियम को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बना दिया जाए। ताकि यहां पर अंतरराष्ट्रीय के साथ ही आईपीएल के मैचों का आयोजन हो सके। स्टेडियम को नए सिरे से संवारने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने बेटे की मांग पर गत बजट में बीस करोड़ रुपये का प्रावधान किया था। अब इस स्टेडियम के कायाकल्प करने की जिम्मेदारी कश्मीर मूल के आईएएस अधिकारी व जेडीए आयुक्त कमर उल जमाल ने संभाल रखी है। वे सिविल इंजीनियर भी रह चुके हैं। उन्होंने बताया कि स्टेडियम को देश के बेहतरीन स्टेडियमों में से एक गिना जाता है, लेकिन इसमें कुछ खामियां है. उन्हें दूर करने के बाद ही यहां पर अंतरराष्ट्रीय मैचों का आयोजन किया जा सकता है। काम हाथ में लेने से पूर्व हमने जांच कराई कि इसके अंदर का एरिना अंतरराष्ट्रीय मापदंडों के अनुरूप है या नहीं। यह एक दम परफैक्ट पाया गया है। इसके बाद हमने कार्य योजना तैयार की। इसके लिए जयपुर व बेंगलुरु की एक फर्म को सलाहकार बनाया गया है। साथ ही कार्यों के टेंडर भी हो चुके है और कार्य शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि दस दिन पूर्व मुख्यमंत्री के साथ बैठक में इस मसले पर चर्चा हुई थी। उस दौरान गहलोत ने कहा कि पूर्व में भी इस स्टेडियम में पैसा लगाया गया, लेकिन लाभ नहीं मिल पाया। ऐसे में इस बार पूरी योजना बनाकर कार्य को आगे बढ़ाया जाए। साथ ही स्थाई निर्माण पर फोकस किया जाए। ये होंगे कार्य: स्टेडियम के भीतर की मिट्टी और पिच को पूरी तरह से खोद दिया गया है। नए सिरे से पिच को तैयार कराया जाएगा। साथ ही पांच अभ्यास पिच बनाई जाएगी। पिच के लिए काली मिट्टी हरियाणा से व लाल मिट्टी महाराष्ट्र से मंगाई जा रही है। वहीं मैदान में लॉन को नए सिरे से लगाया जाएगा। साउथ पवेलियन को पूरी तरह से तोड़ा जा रहा है। इसे पूरा नया बनाया जाएगा। इसमें पांच सितारा होटल के समान खिलाडिय़ों को बेहतरीन सुविधा मिल सकेगी। जिस तरह देश-विदेश के बड़े स्टेडियमों में सुविधाएं मिलती है। उसी तर्ज पर अत्यधुनिक सुविधाओं को जुटाया जाएगा। वर्तमान में प्रेस व कमेंट्री के लिए स्टेडियम में स्थाई निर्माण नहीं है। ऐसे में नार्थ ब्लॉक में अलग से नया पवेलियन बनवाया जाएगा। वेस्ट पवैलियन का नए सिरे से जीर्णोद्धार होगा। ताकि इसमें कुछ स्तरीय व नई सुविधाएं जुटाई जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/सतीश/संदीप