Rallopa to cash out free electricity, toll-free Rajasthan issues in civic elections
Rallopa to cash out free electricity, toll-free Rajasthan issues in civic elections
राजस्थान

निकाय चुनावों में उम्मीदवार उतार मुफ्त बिजली, टोलमुक्त राजस्थान मुद्दे भुनाएगी रालोपा

news

नागौर, 09 जनवरी (हि.स.)। सांसद हनुमान बेनीवाल ने शनिवार को राजस्थान की 90 नगर निकायों और 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में उतरने का ऐलान कर दिया। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में अंतिम छोर पर बैठे लोगों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने व नगर निकायों में विकास के मुद्दों को लेकर आरएलपी चुनाव लड़ेगी। उन्होंने मुफ्त बिजली और टोल मुक्त राजस्थान के लिए बड़ा आंदोलन करने की भी बात कही। बेनीवाल ने शनिवार को पत्रकारों से बाचीत में कहा कि बढ़ते अपराध, बिगड़ती कानून व्यवस्था, बेरोजगारी, मुफ्त बिजली, टोल मुक्त राजस्थान सहित जनहित के कई मुद्दों को लेकर आरएलपी सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन करेगी। बेनीवाल ने कहा कि हाल ही में हुए नगर निकाय चुनाव में आरएलपी की अच्छी परफॉर्मेंस रही है। हमने 40 लाख से अधिक वोट हासिल किए हैं। बहुत कम समय में बनी इस नई पार्टी ने मतदाताओं के बीच में अपनी पहचान बना ली है। ऐसे में अब 90 नगर निकायों के चुनाव में भी सभी सीटों पर आरएलपी अपना उम्मीदवार उतारेगी। क्षेत्र में चुनाव की जिम्मेदारी संभालने के लिए प्रभारी नियुक्त किए जा रहे हैं। यह प्रभारी इन क्षेत्रों से पार्टी कार्यकर्ताओं के बायोडाटा एकत्रित करेंगे, उसके बाद प्रदेश कार्यकारिणी नाम तय करेगी। बेनीवाल ने कहा कि गहलोत सरकार के विफलता भरे इन 2 सालों के कामकाज को लेकर हम जनता के बीच वोट मांगेंगे। बेनीवाल ने राजस्थान की 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भी अपने उम्मीदवार उतारने का ऐलान किया। बेनीवाल ने कहा कि इन तीनों सीटों पर आरएलपी अपना उम्मीदवार उतारेगी ही नहीं, बल्कि हम क्लीन स्वीप करेंगे। किसान आंदोलन के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि शाहजहांपुर बार्डर पर आरएलपी का किसान आंदोलन के समर्थन में पड़ाव जारी है। यह आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने मांग की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह इस मामले में सीधा दखल देते हुए किसानों से बातचीत करें और उनकी मांगों पर सहमति बनाएं। देश का अन्नदाता इस तरह कड़ाके की ठंड में सडक़ों पर बैठा है, यह देश के लिए हित में नहीं है। बेनीवाल ने कहा कि राजस्थान में पिछले 22 सालों से अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे का गठबंधन चल रहा है। दोनों मिलकर प्रदेश के जनता की गाढ़ी कमाई में भ्रष्टाचार का नया अध्याय लिख रहे हैं। जनता को विकल्प की तलाश है और उस विकल्प के रूप में आरएलपी उभर कर सामने आएगी। 2023-24 के चुनाव में आरएलपी अपने दम पर चुनाव लड़ेगी और जनता को एक नया विकल्प देगी। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर-hindusthansamachar.in