टीबी मुक्ति के प्रयासों के लिए राजसमंद-भीलवाड़ा को मिलेगा कांस्य पदक : चिकित्सा मंत्री

टीबी मुक्ति के प्रयासों के लिए राजसमंद-भीलवाड़ा को मिलेगा कांस्य पदक : चिकित्सा मंत्री
rajsamand-bhilwara-to-get-bronze-medal-for-tb-liberation-efforts-medical-minister

जयपुर, 24 मार्च (हि. स.)। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि भारत को वर्ष 2025 तक टीबी से मुक्त करने के लक्ष्य में राजस्थान पहल करेगा और देश में सबसे पहले टीबी मुक्त राज्य का दर्जा हासिल करने का पूर्ण प्रयास करेगा। डॉ. शर्मा विश्व क्षय रोग दिवस के मौके पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यशाला को वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कार्यशाला में टीबी रोग के उपचार के लिए जिन नवीन तकनीकों की जानकारी दी गई है उन्हें राज्य के चिकित्सक उपचार के दौरान आवश्यक तौर पर अपनाएं। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि देश में प्रमुख तौर पर जिन पांच राज्यों में टीबी के मरीज पाए जाते हैं, उनमें राजस्थान भी सम्मिलित है। राज्य को टीबी रोग से मुक्त करने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में टीबी की त्वरित जांच के लिए 59 ट्रूनेट मशीनें स्थापित की गई है। साथ ही अधिकारियों को भी समय-समय पर प्रशिक्षित किया जा रहा है ताकि मरीजों को समय पर इलाज मिल सके। डॉ. शर्मा ने कहा कि टीबी मुक्त राज्य के प्रयासों में प्रत्येक जिले की दो पंचायत समितियों को चिन्हित कर उन्हें टीबी मुक्त घोषित करवाने के भी प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य सरकार के प्रयासों से राजसमंद व भीलवाड़ा जिले में टीबी रोगियों की संख्या में खासी कमी आई है। इसको देखते हुए इन दोनों जिलों को भारत सरकार से कांस्य पदक से भी पुरस्कृत किया जाएगा। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सरकार ने खनन व निर्माण में लगे श्रमिकों व उनके परिवारजनों के कल्याण के लिए अक्टूबर 2019 में नई सिलिकोसिस नीति की घोषणा की गई है। इसमें सिलिकोसिस पीडि़तों की पहचान होने पर उन्हें तीन लाख रुपए की सहायता एवं मृत्यु होने पर दो लाख रुपए भी दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जांच के बाद अब तक 11 हजार 300 से अधिक लोगों को सिलिकोसिस प्रभावित से प्रमाणित किया जा चुका है। राज्य स्तरीय कार्यशाला में जनस्वास्थ्य निदेशक डॉ. केके शर्मा ने बताया कि कुछ समय पूर्व तक टीबी मरीजों को हेय दृष्टि से देखा जाता था लेकिन अब राज्य सरकार के प्रयासों से ना केवल उनका समुचित उपचार किया जा रहा है अपितु समाज ने भी उनके प्रति नजरिया बदला है। राज्य टीबी अधिकारी डॉ. विनोद गर्ग ने बताया कि टीबी उन्मूलन में राजस्थान बेहतर कार्य कर रहा है। प्रदेश के बांसवाड़ा, जयपुर और करौली जिले 75 प्रतिशत से अधिक निर्धारित लक्ष्य को पूर्ण करने में सफल रहे है। इस अवसर पर आरसीएच निदेशक डॉ. लक्ष्मण सिंह ओला ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम में टीबी उन्मूलन में वर्ष 2019 के लिए पाली को प्रथम, बारां को द्वितीय और झालावाड़ को तृतीय पुरस्कार दिया गया। वहीं 2020 के लिए पाली को प्रथम व बारां व प्रतापगढ़ ने द्वितीय स्थान हासिल किया। कार्यक्रम में सभी जिलों से आए टीबी अधिकारी व संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप

अन्य खबरें

No stories found.