prabuddha-civic-conference-concluded-in-adarsh-vidya-mandir
prabuddha-civic-conference-concluded-in-adarsh-vidya-mandir
राजस्थान

आदर्श विद्या मन्दिर में प्रबुद्व नागरिक सम्मेलन संपन्न

news

भीलवाड़ा, 23 फरवरी (हि.स.)। जिले के शाहपुरा के गांधीपुरी स्थित आदर्श विद्या मंदिर माध्यमिक विद्यालय में मंगलवार को प्रबुद्व नागरिक सम्मेलन व अटल टिंकरिंग लैब के लोकार्पण समारोह आयोजित किया गया। भीलवाड़ा विद्या भारती शिक्षा संस्थान के अध्यक्ष डा. रोशनलाल पितलिया की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में विद्या भारती राजस्थान क्षेत्र के संगठन मंत्री शिवप्रसाद ने मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित किया। समारोह में आरएसएस के जिला संघचालक शंकरलाल तोषनीवाल व पालिका अध्यक्ष रघुनंदन सोनी भी मौजूद रहे। विद्या भारती राजस्थान क्षेत्र के संगठन मंत्री शिवप्रसाद ने कहा कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भारत की शिक्षा का केंद्र पश्चिम ही रहा क्योंकि अंग्रेजों ने भारतीयों के मस्तिष्क में इस बात को गहराई तक बैठा दिया कि जो कुछ अच्छा है और श्रेष्ठ है, वह पश्चिम में ही है। भारत तो सदैव से ही अनपढ़ लोगों का देश रहा। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश, स्वतंत्रता के पश्चात प्रारंभिक नेतृत्वकर्ताओं ने भी अंग्रेजों के पढ़ाए गए इस पाठ को अक्षरश स्वीकार कर लिया। यही कारण रहा कि स्वतंत्रता के बाद से अब तक भारत की शिक्षा पश्चिम की नकल पर ही आधारित रही. जबकि भारत सदियों से संपूर्ण विश्व के लिए शिक्षा का एक महत्वपूर्ण केंद्र रहा। नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय इसके महत्वपूर्ण प्रमाण हैं. शिक्षा नीति 2020 एक बार फिर भारत केंद्रित शिक्षा की बात करती है जो एक स्वागत योग्य कदम है क्योंकि भारत केंद्रित शिक्षा से ही भारत का भाग्योदय संभव है। उन्होंने कहा कि विद्या भारती अपने जन्म से अब तक भारत केंद्रित संस्कार युक्त शिक्षा के लिए ही प्रयत्नशील है. शिक्षा नीति-2020 के कई प्रावधान जैसे मातृभाषा में प्राथमिक शिक्षा, शिशु केंद्रित शिक्षा, कौशल विकास आदि सभी विषयों पर विद्या भारती शिक्षण संस्थान द्वारा संचालित सभी विद्यालयों में पहले से ही प्रयत्न किए जाते रहे हैं. चित्तौड़ प्रात के संगठनमंत्री गोविंद कुमार ने जनजातिय क्षेत्र में चल रहे एकल विद्यालयों के सुचारू संचालन व उन क्षेत्रों में अराष्ट्रीय गतिविधियों की रोकथाम के लिए नागरिकों से खुले दिल से आर्थिक सहयोग का आव्हान किया। प्रांरभ में प्रधानाचार्य भंवरसिंह राणावत, प्रबंध समिति के कोषाध्यक्ष सत्यप्रकाश काबरा ने स्वागत किया। हिन्दुस्थान समाचार/मूलचन्द पेसवानी/ ईश्वर