politics-intensified-on-the-religious-visit-of-former-chief-minister-raje-bjp-congress-face-to-face
politics-intensified-on-the-religious-visit-of-former-chief-minister-raje-bjp-congress-face-to-face
राजस्थान

पूर्व मुख्यमंत्री राजे की धार्मिक यात्रा पर सियासत तेज, भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने

news

जयपुर, 01 मार्च (हि. स.)। पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे की प्रदेश में हो रही धार्मिक यात्राओं को लेकर भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने हो गई है। ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला का कहना है कि धार्मिक यात्रा आध्यात्मिक सुख और मोक्ष के लिए निकाली जाती है, वह भी पूरी तरह गुप्त रखी जाती है। जबकि, भाजपा तर्क दे रही है कि देवदर्शन हमारी सांस्कृतिक परंपराओं का हिस्सा हैं और इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। विधानसभा परिसर के बाहर सोमवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला से जब वसुंधरा राजे की धार्मिक यात्रा पर चल रही सियासत से जुड़ा सवाल पूछा गया तो उन्होंने पहले तो यह कहकर इनकार कर दिया कि यह वसुंधरा जी की व्यक्तिगत यात्रा है, उस पर क्या बोलूं, लेकिन बाद में उन्होंने कहा कि वे स्वयं धार्मिक व्यक्ति हैं और उनसे ज्यादा धार्मिक यात्राएं कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की यात्राएं गुप्त रखी जाती हैं। धार्मिक यात्रा आध्यात्मिक सुख और मोक्ष के लिए की जाती है। इस दौरान कल्ला ने साल 1984 में माउंट आबू में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा कराए गए रुद्राभिषेक का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि यह रुद्राभिषेक पूरी तरह गुप्त रखा गया। कुछ ही लोगों को इसकी जानकारी थी। चंद्रशेखर आजाद की मौत को लेकर आए भाजपा विधायक मदन दिलावर के विवादित बयान पर भी मंत्री बीडी कल्ला ने भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दिलावर कहां से ये सब लेकर आते हैं, भगवान जाने। क्या दिलावर चंद्रशेखर आजाद से मिले थे या कोई चिट्ठी उन्हें लिखते थे। कल्ला ने कहा कि जवाहरलाल नेहरु ने तो उन्हें बचाने का पूरा प्रयास किया। बतौर बैरिस्टर और राजनेता के रूप में पूरी मदद की। कल्ला ने कहा कि तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश करना भाजपा के लोगों की आदत है। भाजपा के लोग तो गांधी और नेहरु परिवार पर भी सवाल उठाते हैं, जिनकी पीढिय़ां देश सेवा में निकल गईं। इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान तक दे दिया। उनको लेकर भी ये लोग अनर्गल बातें करते हैं। कल्ला ने कहा कि भाजपा के लोग स्वतंत्रता सैनानी और शहीदों का भी अपमान करने से नहीं चूकते, क्योंकि इन्हें तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश करना बखूबी आता है। दूसरी तरफ, उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि देवदर्शन हमारी सांस्कृतिक परंपराओं का हिस्सा हैं और इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। वसुंधरा जी अगर मंदिर में दर्शन करने जाती है तो इसमें आपत्ति क्या है? मंदिर दर्शन के लिए तो कोई भी जा सकता है। ऐसे मुद्दों पर कांग्रेस ही सियायत करती है। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप