कोरोना के गंभीर रोगियों की सांसे लौटाएंगे स्कूलों की प्रयोगशालाओं के ऑक्सीजन सिलेण्डर

कोरोना के गंभीर रोगियों की सांसे लौटाएंगे स्कूलों की प्रयोगशालाओं के ऑक्सीजन सिलेण्डर
oxygen-cylinders-of-school-laboratories-will-return-the-breath-of-serious-corona-patients

जयपुर, 10 मई (हि.स.)। कोरोना की आपदा में राजस्थान की 332 सरकारी स्कूलों में हेल्थ केयर ट्रेड की प्रयोगशालाओं में स्थापित 393 ऑक्सीजन सिलेण्डर कोरोना के गंभीर मरीजों की जान बचाएंगे। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आयुक्त एवं राज्य परियोजना निदेशक भंवरलाल ने ये ऑक्सीजन सिलेण्डर संबंधित जिलों के मरीजों तक उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए उन्होंने सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखा है। कोरोना संकट के दौर में कोविड मरीजों को उपचार मुहैया करवाने में ऑक्सीजन की कमी आड़े आ रही है। ऐसे में शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों की प्रयोगशालाओं में रखे ऑक्सीजन सिलेण्डर कोविड मरीजों के उपचार के लिए जिला प्रशासन को मुहैया करवाने का फैसला किया है। पत्र में बताया गया है कि व्यावसायिक शिक्षा योजना के तहत राज्य के 332 राजकीय विद्यालयों में हेल्थ केयर ट्रेड संचालित है। इनकी प्रयोगशालाओं में ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया करवाए गए हैं. वर्तमान में कोविड संकट के दौर में अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेण्डर्स की मांग बढ़ रही है। ऐसे में सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि हेल्थ केयर ट्रेड संचालित विद्यालयों की प्रयोगशालाओं में रखे ऑक्सीजन सिलेंडर जिला प्रशासन को मुहैया करवाए जाए। जिला प्रशासन को ऑक्सीजन सिलेण्डर मुहैया करवाने की जानकारी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारियों को स्कूल शिक्षा परिषद को देनी होगी। प्रदेश की 332 सरकारी स्कूलों में हेल्थ केयर ट्रेड संचालित है। इन स्कूलों की प्रयोगशालाओं में 393 ऑक्सीजन सिलेण्डर हैं। इनमें से 376 छोटे और 17 बड़े सिलेंडर हैं। कुल 393 ऑक्सीजन सिलेण्डर्स में से 167 भरे हुए हैं, जबकि 220 सिलेंडर खाली हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप