भारतीय ब्रांड को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आगे बढ़ाने हेतू नई केंद्रीय योजना को मंजूरी

भारतीय ब्रांड को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आगे बढ़ाने हेतू नई केंद्रीय योजना को मंजूरी
new-central-scheme-approved-to-promote-indian-brand-in-international-market

बीकानेर, 07 मई (हि.स.) वैश्विक स्तर पर अग्रणी खाद्य विनिर्माण कम्पनियां तैयार करने में मदद करने तथा खाद्य उत्पादों को भारतीय ब्रांड को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आगे बढाने हेतु सरकार ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के लिए 10900 करोड़ रुपये के आवंटन के साथ वर्ष 2021-22 से वर्ष 2026-27 के दौरान कार्यान्वयन के लिए उत्पादन आधारित प्रोत्साहन योजना के नाम से एक नई केन्द्रीय योजना को मंजूरी दी है। बीकानेर जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष डी.पी.पचीसिया ने बताया कि मंत्रालय ने तीन श्रेणियों के आवेदकों से इस योजना के अंतर्गत विदेशों में ब्रांडिंग और विपणन गतिविधियों को शुरू करने के लिए बिक्री आधारित प्रोत्साहन और अनुदान प्राप्त करने के लिए आवेदन आमंत्रित किया है। आवेदन जमा करवाने की अंतिम तिथि 17 जून 2021 रखी गई है। पहली श्रेणी में आवेदक बड़ी संस्थाएं है जो बिक्री और निवेश मानदंडों के आधार पर प्रोत्साहन के लिए आवेदन कर सकती है। दूसरी श्रेणी के तहत नवोन्मेषी और जैविक उत्पाद बनाने वाले एसएमई आवेदक बिक्री के आधार पर पीएलआई प्रोत्साहन के लिए आवेदन कर सकते हैं। तीसरी श्रेणी में विदेशों में ब्रांडिंग व विपणन गतिविधियाँ शुरू करने के लिए केवल अनुदान के लिए आवेदन किया जा सकता है। योजना के तहत बिक्री आधारित प्रोत्साहन 2021-22 से 2026-27 तक यानी छह साल के लिए आधार वर्ष के मुकाबले बढी हुई बिक्री पर दिया जाएगा। बढी हुई बिक्री की गणना के लिए आधार वर्ष पहले 4 वर्षों के लिए 2019-20 होगा। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/संदीप