need-to-work-together-for-the-reconstruction-of-tourism-sector-tourism-minister
need-to-work-together-for-the-reconstruction-of-tourism-sector-tourism-minister
राजस्थान

टूरिज्म सेक्टर के पुर्ननिर्माण के लिए साथ मिलकर प्रयास करने की जरूरत : पर्यटन मंत्री

news

जयपुर, 06 अप्रैल (हि.स.)। कोविड -19 महामारी के कारण टूरिज्म सेक्टर को बड़ी क्षति हुई है। इस कठिन समय में टूरिज्म इंडस्ट्री के सभी स्टेकहोल्डर्स को साथ मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है। टूरिज्म डवलपमेंट फंड के तहत हाल ही में टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए की गई 500 करोड़ रुपए की बजट घोषणा राज्य में इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण और नए टूरिज्म स्पॉट के विकास के द्वारा पर्यटन को पुर्नजीवित करने में मददगार साबित होगी। इस बजट में से 200 करोड़ रुपए मार्केटिंग और प्रमोशन के लिए अलग रखे गए हैं। यह बात पर्यटन राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कही। वे राजस्थान टूरिज्म द्वारा फिक्की राजस्थान स्टेट काउंसिल के सहयोग से राजस्थान पर्यटन : अवसर एवं संभावनाएं विषय पर आयोजित वेबिनार में संबोधित कर रहे थे। मंत्री डोटासरा ने कहा कि राजस्थान की समृद्ध संस्कृति, परंपरा और विरासत का उपयोग ग्रामीण पर्यटन के रूप में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए किया जाना चाहिए। इसे सोशल मीडिया के माध्यम से भी बढ़ावा देना चाहिए। हाल ही में आयोजित शेखावटी उत्सव का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि शेखावटी क्षेत्र में सालासर बालाजी और खाटुश्यामजी के साथ-साथ फोर्ट और बावडिय़ों जैसे पर्यटकों के लिए कई आकर्षण के केंद्र हैं। इस क्षेत्र को टूरिज्म सर्किट के रूप में विकसित किया जाएगा। डोटासरा ने राज्य में टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए पर्यटकों की सुरक्षा और स्वच्छता की जरूरत पर जोर दिया। हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के कर्मचारियों के टीकाकरण की आवश्यकता पर बात करते हुए फिक्की ट्रैवल, टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी कमेटी चेयरपर्सन डॉ. ज्योत्सना सूरी ने कहा कि कोविड-19 में फिर से वृद्धि होने से टूरिज्म सेक्टर कमजोर पड़ रहा है और अगले 2 सालों तक डोमेस्टिक टूरिज्म पर फोकस रखना होगा। उन्होंने मंत्री से अपील की कि होटल और रेस्टोरेंट के कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स के रूप में पहचान मिले और उनके टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। निदेशक टूरिज्म निशांत जैन ने बताया कि पर्यटन नीति में ग्रामीण पर्यटन को प्राथमिकता पर रखा गया है और इसे उचित महत्व दिया गया है। उन्होंने ऐसे वेबिनार आयोजित करने के लिए फिक्की के प्रयासों की सराहना की। फिक्की राजस्थान स्टेट के को-चेयरमैन रणधीर विक्रम सिंह ने कहा कि डोमेस्टिक टूरिज्म कुंजी है और राजस्थान के पास इस सेक्टर में आगे बढऩे के लिए सभी आवश्यक सामग्री उपलब्ध है। राज्य वेडिंग टूरिज्म के क्षेत्र में सबसे आगे है। टूरिज्म को बढ़ाना देने के लिए वेलनेस टूरिज्म, एक्सपिरेंशीयल टूरिज्म जैसे टूरिज्म के नए क्षेत्रों और स्टार्टअप्स की भूमिका को भुनाने की आवश्यकता है। एचआरएआर प्रेसिडेंट कुलदीप सिंह चंदेला ने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में 500 करोड़ रुपए का आवंटन टूरिज्म इंडस्ट्री को समग्र संवर्धन प्रदान करेगा। उन्होंने पर्यटन क्षेत्र को इंडस्ट्री का दर्जा देने की मांग भी दोहराई। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर