massive-protest-demanding-the-execution-of-the-rapist
massive-protest-demanding-the-execution-of-the-rapist
राजस्थान

दुष्कर्मी को फांसी की मांग को लेकर विशाल प्रदर्शन

news

जयपुर/ झुन्झुनूं, 23 फरवरी (हि.स.)। झुन्झुनूं जिले के पिलानी थाना क्षेत्र के गांव में छह वर्षीय मासूम बालिका के साथ हुए दुष्कर्म को लेकर मंगलवार को नाई जागृति मंच संस्थान राजस्थान प्रदेश जयपुर एवं सर्व समाज की ओर से भाजपा कार्यालय के बाहर से सिविल लाइन फाटक तक विशाल धरना प्रदर्शन कर आरोपित को फांसी की सजा की मांग की गई। नाई जागृति मंच संस्थान राजस्थान प्रदेश जयपुर के पदेश संरक्षक व केश कला बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष मोहन मोरवाल ने बताया कि सैन समाज एवं सर्व समाज की ओर से आयोजित इस प्रदर्शन में सैकड़ों महिला-पुरुष शामिल हुए। नाई जागृति मंच के विशंभर पडियार, शोभाग गोठडिया, कन्हैयालाल देवकिशनपुरा, केश कला संस्थान के प्रदेश अध्यक्ष भंवर उज्जवल नीरज दुहारिया, गोपाल हसनपुरा, सुरेंद्र गोपालपुरा, युवा मोर्चा के सुखदेव पहलवान प्रकाश मुहाना, कमल घडीसाज प्रभुदयाल करौली, राजेश सेन आदि कार्यकर्ताओं ने किया। प्रदर्शन को भाजपा महिला मोर्चा ने भी समर्थन दिया। प्रदेशाध्यक्ष अलका मुन्दडा के नेतृत्व में लगभग 100 महिलाएं शामिल हुई। सैन समाज महिला मोर्चा की मंजू सेन, वर्तिका सेन इन्द्रा देवी राजकुमारी अरणिया आदि ने भी प्रदर्शन में आरोपित को फांसी की सजा देने की मांग को लेकर जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन में भाजपा जिलाध्यक्ष राघव शर्मा, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य रणजीत सिंह सोडाला आदि कार्यकर्ता भी शामिल हुए। प्रदर्शन में टोंक से जयनारायण देवली, प्रेम प्रकाश नटवाडा, सीताराम मेहंदवास, विष्णु सेन, लोकेश देवली, रामदेव सैन,गजानंद पलाई कानाराम श्रीकृष्णपुरा सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित हुए। प्रदर्शन में दौसा से सत्यनारायण पीलोड़ी कैलाशचंद गोठडा के नेतृत्व में दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित रहे। जयपुर से लक्ष्मीनारायण भैसलाना, राधेश्याम डागरथल कानाराम श्रीकृष्णपुरा, गजेंद्र फागी, शंकर नायला, दीपक राजोरा, भगवान सहाय चावंडिया, लक्ष्मी नारायण मारोठ, लल्लू लाल जगसरा, छोटेलाल गेटोर, प्रभु नारायण सिवार कैलाश चंद चैंप, भगवान मीणावाला, घनश्याम सेन, ग्यारसी लाल सेन, राजेश वर्मा, सुनील हसनपुरा के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता पहुंचे। सभी कार्यकर्ताओं ने राजस्थान में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए सरकारी कानून व्यवस्था की निंदा की एवं कर्मियों को फांसी की सजा की मांग की। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर