कोरोना संकट : पूर्वी राजस्थान के लोकतीर्थ मचकुंड का लक्खी मेला स्थगित
कोरोना संकट : पूर्वी राजस्थान के लोकतीर्थ मचकुंड का लक्खी मेला स्थगित
राजस्थान

कोरोना संकट : पूर्वी राजस्थान के लोकतीर्थ मचकुंड का लक्खी मेला स्थगित

news

धौलपुर, 24 जुलाई (हि.स.)। पूर्वी राजस्थान के प्रसिद्व लक्खी मेलों में शुमार तीर्थराज मचकुंड सरोवर का मेला इस वर्ष नहीं लगेगा। देश और प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढते मामलों तथा संभावित संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए जिला प्रशासन ने जनहित में यह निर्णय लिया है। जिला प्रशासन की इस पहल को आमजन तथा धर्मगुरुओं ने सराहा है। सभी तार्थों का भांजे के रुप में लोक मान्यता रखने वाले मचकुंड सरोवर पर प्रतिवर्ष भादों माह की छठ पर लक्खी मेले का आयोजन होता है। इस मेले में नव विवाहित वर और वधू की मौहर और मौहरियों का जल में विसर्जन में कर उनके सुखी दापंत्य जीवन एवं दीर्घायु की कामना की जाती है। कौमी एकता की मिसाल के रूप में आयोजित होने वाले इस मेले के दौरान ही पहाड वाले बाबा का सालाना उर्स होता है तथा गुरूद्वारा शेर शिकार में भी श्रद्वालु मत्था टेकते हैं। लेकिन इस बार कोरोना संकट के कारण मचकुंड मेले का स्थगित किया गया है। इसके अलावा शरद मेला, ईदुलजुहा, मोहर्रम, विशिन गिरी बाबा का मेला, थूम के बाबू महाराजा का मेला, तुलसीवन मेला, बाबू महाराज का मेला एवं महाकालेश्वर बाबा का मेले का आयोजन भी स्थगित किया गया है। इन मेलों में काफी संख्या में जिले के व अन्य राज्यों के व्यक्ति एवं श्रद्वालु आते हैं। जिसके कारण जिले में कोरोना फैलने की अधिक संभावना है। डीएम आरके जायसवाल ने बताया कि जिले में व उसकी सीमा से लगे हुए जिलों व राज्यों में कोरोना वायरस के बढते हुये प्रभाव को देखते हुए जिला कलक्टर द्वारा राजस्थान एपिडेमिक डिजीजेज एक्ट 1957 की धारा 2 की उपधारा 3 में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिले में चल रहे या लगने वाले सभी धार्मिक व सांस्कृतिक मेलों, धार्मिक कार्यक्रम तथा बड़े सामूहिक आयोजनों को आगामी आदेश तक स्थगित किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार / प्रदीप/ ईश्वर-hindusthansamachar.in