jhunjhunu39s-second-rank-in-the-performance-of-mla-quota
jhunjhunu39s-second-rank-in-the-performance-of-mla-quota
राजस्थान

विधायक कोटे के कार्य निष्पादन में झुंझुनू की दूसरी रैंक

news

झुंझुनू, 23 फरवरी (हि.स.)। झुंझुनू के विधायक अपने विधायक कोटे यानी एमएलए- स्थानीय क्षेत्र विकास कोटे से विकास कार्यों के लिए खर्च करने में प्रदेश भर में दूसरे स्थान पर हैं। विधायक कोष की राशि खर्च करने, प्रभावी क्रियान्वयन के विभिन्न पैरामीटर्स को लेकर जारी सूची में झुंझुनू का प्रदेश के 33 जिलों में से दूसरा स्थान यकीकन बड़ी उपलब्धि है। इतना ही नहीं पहले पायदान और झुंझुनू के बीच फासला महज 0.4 अंकों का ही रहा है। झुंझुनू जहां 3.2 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है। वहीं बारां 3.6 अकों को साथ पहले स्थान पर है। विधायक कोटे से विकास कार्यों के लिए नोडल एजेंसी जिला परिषद के बेहतर प्रबंधन का ही परिणाम है कि यहां महज 92.67 लाख रूपये ही औसतन प्रति विधायक के कोष में है। बाकी राशि खर्च की जा चुकी है। प्रति विधायक उपलब्ध नकद राशि में जिला 5 वें स्थान पर रहा है। अर्थात जिले के विधायक भी तत्परता से अपनी अभिशंषाएं प्रेषित कर रहे हैं और राज्य के अन्य जिलों की तुलना में विधायक कोष से कार्य प्रस्तावित करने में काफी आगे है। उपलब्ध कार्यों के विरूद्ध अप्रारम्भ कार्यों का प्रतिशत की बात करें तो ये महज 18.35 फीसदी है और जिला यहां भी अच्छी ग्रेड में मौजूद है। सबसे अच्छी बात है कि रैंक में 2 पायदानों का सुधार हुआ है। इससे पहले झुंझुनू की चैथी रैंक थी। अब ये दूसरी रैंक पर आ गया है। यहां अग्रिम राशि के विरूद्ध समायोजित राशि का प्रतिशत भी 76.51 रहा है। वहीं गत विधानसभा तक के कार्यों का तो 100 फीसदी समायोजन किया जा चुका है। इस मामले में ना केवल झुंझुनू पहले स्थान पर है बल्कि पूरे प्रदेश में ये उपलब्धि हासिल करने वाला एकमात्र जिला भी है। जिला परिषद झुंझुनू के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयप्रकाश नारायण ने बताया कि विधायकों द्वारा निरंतर दिए निर्देश एवं जिला परिषद व पंचायत समितियों के अधिकारियों, तकनीकी एवं लेखाधिकारी और कार्मिकों की सजगता व मॉनिटरिंग का ही नतीजा है कि जिला विधायक-स्थानीय क्षेत्र विकास कोष के कार्य निष्पादन में द्वितीय रैंक पर है। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश सर्राफ

AD
AD