इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट, पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता जनार्दन सिंह गहलोत नहीं रहे

इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट, पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता जनार्दन सिंह गहलोत नहीं रहे
janardhan-singh-gehlot-founder-president-of-international-kabaddi-federation-former-minister-and-congress-leader-no-longer

जयपुर, 28 अप्रैल (हि.स.)। पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन सिंह गहलोत का बुधवार को जयपुर में हार्ट अटैक से निधन हो गया। वे 76 वर्ष की उम्र के थे। अंतरराष्ट्रीय खेल में कबड्डी को विशेष पहचान दिलाने के लिए उनकी भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाती है। उन्हीं के प्रयासों से देश और राजस्थान में कबड्डी खेल नई ऊंचाइयों तक पहुंची। इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट रहे जर्नादन गहलोत के निधन से प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर दौड़ गई। सीएम अशोक गहलोत ने उनके निधन पर दुख जताया है। मुख्यमंत्री गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि जनार्दन सिंह गहलोत का राजनीतिक क्षेत्र एवं खेल जगत में उल्लेखनीय योगदान रहा। ईश्वर शोकाकुल परिजनों को यह आघात सहने की शक्ति दें। गहलोत भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों में रहे थे। जर्नादन सिंह गहलोत राजनीति के साथ-साथ बरसों से खेल जगत से भी जुड़े हुए थे। वे इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट रहने के अलावा राजस्थान ओलम्पिक संघ के भी अध्यक्ष रह चुके थे। उनके निधन पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी, पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा और मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने भी ट्वीट कर दुख जताया है। जर्नादन सिंह गहलोत ने कांग्रेस से अपना राजनीतिक कॅरियर शुरू किया था। गहलोत तीन बार करौली से और एक बार जयपुर से विधायक रहे थे। जनार्दन सिंह गहलोत के संजय गांधी से बेहद नजदीकी रिश्ते थे। वे कांग्रेस शासन में एक बार खाद्य आपूर्ति मंत्री रहे। बाद में बीच में उन्होंने कांग्रेस का हाथ छोडक़र भाजपा का दामन थाम लिया था। भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान वे राजस्थान भंडारण निगम के अध्यक्ष भी रहे। लोकसभा चुनाव से पूर्व वे वापस कांग्रेस में लौट आए थे। पांच अक्टूबर 1944 को जन्मे जनार्दन सिंह गहलोत का खेलों के प्रति काफी झुकाव था। वे राजनीति के साथ-साथ खेल जगत से भी लगातार जुड़े रहे थे। जर्नादन सिंह गहलोत इंटरनेशनल कबड्डी फेडरेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट रहने के साथ ही 30 साल तक भारतीय कबड्डी संघ के अध्यक्ष रहे। वे भारतीय ओलंपिक संघ उपाध्यक्ष व संघ के राजस्थान अध्यक्ष भी रहे। वे पहली बार 80 के दशक में राजस्थान ओलंपिक संघ के अध्यक्ष बने थे। 1972 के विधानसभा चुनाव में जनार्दन सिंह गहलोत ने दिग्गज भाजपा नेता भैरो सिंह शेखावत को चुनाव में हराया था। गहलोत के निधन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया और प्रतिपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया सहित कई राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया है। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर