बीकानेर की जीवन रक्षा हॉस्पिटल में पाई गई अनियमितताएं, कलेक्टर मेहता ने थमाया नोटिस

बीकानेर की जीवन रक्षा हॉस्पिटल में पाई गई अनियमितताएं, कलेक्टर मेहता ने थमाया नोटिस
irregularities-found-in-bikaner39s-jeevan-raksha-hospital-collector-mehta-served-notice

बीकानेर, 26 अप्रैल (हि.स.)। राजस्थान में बीकानेर संभाग मुख्यालय की जीवन रक्षा हॉस्पिटल में कोविड प्रभावित रोगियों की चिकित्सा में गंभीर प्रकृति की अनियमितताएं, संसाधनों की कमी एवं ऑक्सीजन का दुरूपयोग पाए जाने के पर जिला कलेक्टर नमित मेहता ने अस्पताल को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए दो दिन में स्पष्टीकरण के लिए निर्देश दिए हैं। जिला कलेक्टर ने सोमवार को बताया कि कोविड.19 महामारी के वर्तमान परिपेक्ष्य में चिकित्सा व्यवस्था सुचारू एवं दुरूस्त रखने के लिए गठित जिला स्तरीय समिति द्वारा 20 अप्रैल को अस्पताल का निरीक्षण किया गया। समिति में नगर निगम आयुक्त, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, आरसीएचओ और फोर्ट डिसपेंसरी के फिजिशियन शामिल थे। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि भर्ती मरीजों में से 20 मरीजों का ऑक्सीजन सैचुरेशन सही था। फिर भी उन्हें ऑक्सीजन दिया जा रहा था। इस प्रकार वर्तमान परिस्थितियों में जीवन रक्षा के महत्वपूर्ण स्त्रोत का दुरूपयोग पाया गया। कोविड वार्ड में पॉजिटिव मरीजों के पास उनके रिश्तेदार व स्टाफ बिना मास्क एवं बिना पीपीई किट पहने परिसर में आ-जा रहे थे, जो कि राज्य सरकार द्वारा जारी कोविड प्रोटोकॉल के उल्लंघन की श्रेणी में आता है। अस्पताल में 2 बीएचएमएस और एक एमबीबीएस डॉक्टर मिले, जो कोविड मैनेजमेंट और आईसीयू मैनेजमेंट के दृष्टिकोण से सक्षम नहीं थे। इसके अतिरिक्त हॉस्पिटल में कोविड इलाज के लिए राज्य सरकार द्वारा निर्धारित राशि से अधिक राशि वसूल किए जाने की भी शिकायत भी प्राप्त हुई। इन सभी अनियमितताओं के मद्देनजर यह नोटिस जारी किया गया है। मेहता ने बताया कि दो दिन में जवाब नहीं आने की स्थिति में अस्पताल के विरुद्ध राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के तहत सख्त कार्रवाई की जाएगी। साथ ही अनुज्ञा पत्र को निरस्त किए जाने तथा केन्द्र एवं राज्य की सभी योजनाओं से अस्पताल को ब्लैक लिस्टेड करने की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/ ईश्वर