guidelines-of-home-department-released-for-religious-fairs-festivals-and-programs
guidelines-of-home-department-released-for-religious-fairs-festivals-and-programs
राजस्थान

धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों के लिए गृह विभाग की गाइडलाइन जारी

news

- हरिद्वार में होने वाले कुम्भ मेले में शामिल श्रद्धालुओं को केन्द्र सरकार व उत्तराखंड सरकार की गाइडलाईन की पालना करनी होगी जयपुर, 19 फरवरी(हि.स.)। प्रदेश में कोरोना महामारी संक्रमण से बचाव के लिए राज्य में होने वाले धार्मिक उत्सव और कार्यक्रमों के लिए गृह विभाग ने मानक संचालन प्रक्रिया जारी की है। इसके साथ ही प्रदेश से कुंभ मेले में शामिल होने वाले श्रद्धालओं को केन्द्र सरकार व उत्तराखंड सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन की भी पालना करनी होगी। प्रमुख शासन सचिव गृह अभय कुमार ने बताया कि कोरोना से बचाव हेतु धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों में शामिल होने वाले सभी श्रद्धालुओं को सम्बन्धित जिला प्रशासन से रजिस्टे्रशन करवाना होगा। साथ ही श्रद्धालुओं को अपने राज्य में मौजूदा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र या जिला अस्पताल मेडिकल कॉलेज से निर्धारित प्रारूप में प्राप्त स्वास्थ्य प्रमाण पत्र और नेगेटिव आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट साथ रखनी होगी। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा हरिद्वार में आयोजित होने वाले ‘‘कुम्भ मेला 2021’’ की संभावित तिथि 27 फरवरी से 30 अप्रेल के लिए विस्तृत एसओपी जारी की गई है। उन्होंने बताया कि इसके आधार पर ही उतराखंड सरकार द्वारा भी कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए एडवाइजरी जारी की गई है। अभय कुमार ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से जारी गाइड लाईन के अनुसार हाई रिस्क व्यक्तियों जैसे 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के व्यक्तियों, 10 साल से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं, कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों और को-मोर्बिड व्यक्तियों (डायबिटीज, हाइपर टेंशन, हृदय, श्वसन, किडनी रोग, कैंसर से ग्रसित) को धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों में नहीं जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि एसओपी के अनुसार धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों में भाग लेने वाले स्वस्थ तीर्थ यात्रियों को अपने राज्य में मौजूद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या जिला अस्पताल मेडिकल कॉलेज से निर्धारित प्रारूप में स्वास्थ्य प्रमाण पत्र और नेगेटिव आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट (जो 72 घंटे से पुरानी न हो) अपने साथ रखनी होगी। इन दस्तावेजों के बिना मेले, उत्सवों और कार्यक्रमों में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। परेशानी से बचने के लिए इन दस्तावेजों के बिना घर से रवाना न हों। प्रमुखख शासन सचिव ने बताया कि धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों के लिए श्रद्धालुओं को अपने मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऎप इंस्टॉल कर इस्तेमाल करना होगा। इसके साथ ही धार्मिक मेलों, उत्सवों और कार्यक्रमों के दौरान कोविड अनुकूल व्यवहार जैसे भीड़ से बचना, मास्क पहनना, बार-बार हाथ धोना और आपस में दो गज की दूरी बनाए रखने की पालना भी करनी होगी। कुमार ने बताया की सरकार के गृह विभाग द्वारा जारी उपरोक्त सभी गाइडलाइन्स जैसे निर्धारित प्रारूप में स्वास्थ्य प्रमाण पत्र और नेगेटिव आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट, हाई रिस्क लोगों को मेले में नहीं जाने, कोविड अनुकूल व्यवहार करने, आरोग्य सेतु ऎप इंस्टॉल करने का पालन करना आदि अनिवार्य बातें शामिल हैं। इसके साथ ही कुंभ मेले के लिए प्रस्थान करने से पूर्व श्रद्धालुओं को उत्तराखंड सरकार के पोर्टल https://www.haridwarkumbhmela2021.com/ पर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। हिन्दुस्थान समाचार/संदीप/ ईश्वर