राजस्थान में 23 से 18 फीसदी पर पहुंचा कोरोना के नए केस का ग्राफ

राजस्थान में 23 से 18 फीसदी पर पहुंचा कोरोना के नए केस का ग्राफ
graph-of-new-corona-case-reached-23-to-18-percent-in-rajasthan

जयपुर, 22 मई (हि.स.)। राजस्थान में गहलोत सरकार की ओर से उठाए गए सख्त कदमों का असर अब कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में दिखने लगा है। प्रदेश में 10 मई से लगे सख्त लॉकडाउन का असर यह हैं कि पिछले 10 दिन से लगातार संक्रमित केसों की संख्या में कमी आ रही है। बीते सात दिन में ही संक्रमण की दर में 5 फीसदी की गिरावट आई है। मई के दूसरे सप्ताह में संक्रमण दर 23 फीसदी पर थी। जो पिछले सप्ताह में कम होकर 18 पर आ गई। चिकित्सा विभाग की ओर से जारी किए जाने वाले आंकड़ों को देखें तो राज्य के 33 में से 11 जिले ऐसे हैं, जहां बीते सात दिन में 1000 से भी कम लोग कोरोना की चपेट में आए हैं। जयपुर को छोड़ दें तो अन्य जिलों में एक हजार से 5 हजार की संख्या के बीच बीते एक सप्ताह में संक्रमित केस मिले हैं। विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना केसों में आई ये कमी लॉकडाउन के कारण हुई है। लॉकडाउन के कारण लोग घरों से कम निकले, जिससे संक्रमण कम फैला और धीरे-धीरे कम होने लगा। राजस्थान में मई में पूरे प्रदेश में 14.53 लाख जांच हुई, जिसमें से 3 लाख 05 हजार 417 की जांच पॉजिटिव आई है। वहीं 3236 लोगों की मौत हुई है। राजस्थान में मई की शुरुआत में कोरोना संक्रमण के केसों में तेजी से बढ़ोतरी होने लगी थी। शुरुआती एक सप्ताह में तो दो दिन ऐसे भी आए थे, जब पॉजिटिव केसों की संख्या 18 हजार से भी ज्यादा थी। पहले सप्ताह 1 से लेकर 7 मई तक राज्य में कुल 1 लाख 22 हजार 798 केस आए थे, लेकिन अब तीसरे सप्ताह (15 से 21 मई) में घटकर 67 हजार 604 पर पहुंच गए, यानी 45 फीसदी तक की गिरावट हुई है। राजस्थान में लॉकडाउन के कारण टेस्टिंग भी कम हुई है। छोटी-मोटी खांसी, जुकाम जैसी बीमारियां तो घरों में रहकर ही आयुर्वेद नुस्खे अपनाकर लोगों ने ठीक कर ली। इस कारण भी लोग जांच करवाने नहीं आए। यही कारण रहा कि मई के पहले 7 दिन में 5.77 लाख लोगों की जांच हुई थी। वहीं मई के तीसरे सप्ताह में यह कम होकर 3.78 लाख तक आ गई। मई में सबसे कम टेस्टिंग प्रतापगढ़ जिले में 10 हजार 174 हुई हैं, वहीं सबसे ज्यादा जांचें 2.72 लाख जयपुर जिले में हुईं। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर

अन्य खबरें

No stories found.