general-people-come-forward-to-get-corona-vaccine--chief-minister
general-people-come-forward-to-get-corona-vaccine--chief-minister
राजस्थान

आमजन कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आएं- मुख्यमंत्री

news

जयपुर, 05 अप्रैल (हि. स.)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आमजन से अपील है कि वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आएं। मुख्यमंत्री ने सोमवार को कोरोना के खतरों से आम जनता को एक बार फिर आगाह करते हुए ट्विट किया कि वैक्सीन लगने का लाभ यह होता है कि कोरोना दुबारा भी हो जाता है तो मरीज की स्थिति गंभीर नहीं होती है एवं मृत्यु की आशंका नहीं के बराबर हो जाती है इसलिए वैक्सीन लगवाना बेहद जरूरी है। हालांकि उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों का मानना है कि वैक्सीनेशन के बाद भी मास्क लगाना जरूरी है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान में कोरोना की दूसरी लहर ने राज्य सरकार को चिंतित कर दिया है। रविवार देर रात राज्य सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर कई पाबंदियां लागू कर दी। इसमें सरकार ने स्कूलों में 9वीं तक की नियमित कक्षाओं को बंद करने के साथ ही स्नातक (यूजी) और स्नात्तकोत्तर (पीजी) की फाइनल इयर की क्लासों को छोडक़र शेष कक्षाएं बंद करने के आदेश दे दिए। सरकार ने जिम, सिनेमाघर, स्विमिंग पूल को भी 5 से 19 अप्रैल तक बंद रखने का निर्णय किया है। सरकार ने नाइट कर्फ्यू की समयावधि रात 10 से सुबह 5 बजे को सरकार ने यथावत रखा है। सरकार ने जिलों में कलेक्टर और पुलिस आयुक्त (कमिश्नर) को नाइट कफ्र्यू लगाने के संबंध में विशेष अधिकार दिए हैं। नई गाइडलाइन के तहत रेस्टोरेंट्स में नाइट कफ्र्यू से पहले तक बिठाकर खाना खिला सकेंगे, उसके बाद टेक अवे या होम डिलीवरी की ही सुविधा दे सकेंगे। इसके अलावा आगामी दिनों में मांगलिक कार्यों (शादी-समारोह) पर भी एक बार फिर कोरोना का ग्रहण लग गया है। सरकार ने समारोह में मेहमानों की अधिकतम सीमा 100 निर्धारित की है। आदेशानुसार सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन व शैक्षणिक कार्यक्रम या आयोजन सशर्त हो सकेंगे। इसमें इनडोर एक्टिविटी हॉल की क्षमता का 50 प्रतिशत क्षमता के साथ अधिकतम 100 से ज्यादा व्यक्तियों की अनुमति नहीं होगी। राजकीय कार्यालयों में 75 प्रतिशत कर्मचारियों को ही काम पर बुलाया जाएगा, शेष से वर्क फ्रॉम होम करवाया जाएगा। जहां कोरोना के मरीज ज्यादा है वहां राज्य के लोगों को यात्रा करने से बचने की सलाह दी गई है। इससे पूर्व शनिवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कोविड-19 के सक्रंमण तथा वैक्सीनेशन की स्थिति की उच्च अधिकारियों और विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आमजन के संक्रमण के प्रति लापरवाह हो जाने के कारण ही कोविड-19 की दूसरी लहर तेज गति के साथ आई है। यदि हम सब मास्क पहनने, उचित दूरी और बार-बार हाथ धोने के हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना अनिवार्य रूप से नहीं करेंगे, तो कोरोना वायरस का संक्रमण भयावह रूप ले लेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना के खिलाफ जंग को प्रभावी तरीके से लड़ने के लिए राजस्थानवासियों को राज्य सरकार का सहयोग करना होगा। साथ ही, उन्हें टीकाकरण के लिए भी आगे आना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में संक्रमण की गंभीरता इस आंकडे से समझी जा सकती है कि कुछ सप्ताह पहले प्रदेश में सक्रंमण के दोगुने होने की दर (डब्लिंग रेट) लगभग 8 साल थी, जो वर्तमान में 243 दिन पर आ गई है। उन्होंने कहा कि इस भयावह स्थिति को विस्फोटक होने से रोकने के लिए राज्य सरकार पूरी सख्ती बरतते हुए लोगों से हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना करवाएगी। मुख्यमंत्री ने कोविड टीकाकरण की गति को भी बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि हर प्रदेशवासी को 45 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण करवाने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए और एक-दूसरे को इसके लिए प्रेरित करना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/संदीप / ईश्वर