गहलोत समर्थकों ने कलेक्ट्रेट घेरा, पायलट विरोधी कांग्रेसी सक्रिय
गहलोत समर्थकों ने कलेक्ट्रेट घेरा, पायलट विरोधी कांग्रेसी सक्रिय
राजस्थान

गहलोत समर्थकों ने कलेक्ट्रेट घेरा, पायलट विरोधी कांग्रेसी सक्रिय

news

अजमेर, 25 जुलाई(हि.स.)। राजस्थान में कांग्रेस की निर्वाचित सरकार को गिराने के षडयंत्र के खिलाफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समर्थकों ने शनिवार को जबरदस्त उत्साह दिखाते हुए कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन का संदेश राजनीतिक दृष्टि से यह संदेश देने का प्रयास रहा कि सचिन पायलट के कार्यकाल में गहलोत समर्थकों की उपेक्षा हुई। सचिन पायलट को प्रदेशाध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद यह पहला बड़ा प्रदर्शन था। चूंकि इन दिनों जिला कांग्रेस कमेटियां भी भंग हैं, इसलिए यह प्रदर्शन पूरी तरह गहलोत समर्थक नेताओं के नियंत्रण में रहा। गहलोत के समर्थक नेताओं ने ही भीड़ जुटाने का काम किया। पायलट के अध्यक्ष रहते जो नेता सक्रिय नजर आते थे, प्रदर्शन में निष्क्रिय रहे एवं बीमारी का बहाना कर प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए। जानकारी के अनुसार प्रदर्शन की कमान अशोक गहलोत समर्थक पूर्व विधायक डॉ. श्रीगोपाल बाहेती ने संभाली हुई थी। बाहेती ने बताया कि शहर जिला कांग्रेस कमेटी के निवर्तमान अध्यक्ष विजय जैन, देहात अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठौड़, पूर्व मेयर कमल बाकोलिया आदि नेता बीमार हैं, इसलिए प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए हैं, अलबत्ता इन सभी नेताओं ने प्रदर्शन के प्रति अपनी सहमति जताई है। दो गज दूरी के नियम की धज्जियां उड़ी: कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान कलेक्ट्रेट के बाहर से लेकर कलेक्टर कक्ष तक दो गज दूरी की धज्जियां उड़ी। कोरोना काल में नियमों का उल्लंघन करने वाले आम व्यक्ति पर जुर्माना वसूजा जा रहा है। लेकिन 25 जुलाई को कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान सरकारी मशीनरी मूक दर्शक बनी रही। कोरोना काल में पिछले दिनों जब कुछ पार्षद कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन करने आए थे, तब पुलिस ने पार्षदों को गिरफ्तार कर लिया था। गिरफ्तार होने वालों में मेयर धर्मेन्द्र गहलोत और पूर्व विधायक डॉ. राजकुमार जयपाल भी शामिल थे। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/ ईश्वर-hindusthansamachar.in