‘मील का पत्थर’ है नई शिक्षा नीति - पूर्व कुलपति दशोरा
‘मील का पत्थर’ है नई शिक्षा नीति - पूर्व कुलपति दशोरा
राजस्थान

‘मील का पत्थर’ है नई शिक्षा नीति - पूर्व कुलपति दशोरा

news

उदयपुर, 30 जुलाई (हि.स.)। केन्द्र सरकार की ओर से जारी नई शिक्षा नीति को ‘मील का पत्थर’ की संज्ञा देते हुए राजस्थान लोकसेवा आयोग के पूर्व सदस्य प्रो. पी.के. दशोरा ने कहा है कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति भारत व भारतीयता को केन्द्र में रखते हुए पूर्व प्राथमिक से लेकर विश्वविद्यालयी शिक्षा तक में आमूलचूल परिवर्तन की दिशा को स्पष्ट करती है। शिक्षा पर सकल घरेलू उत्पाद का 6 प्रतिशत शिक्षा के लिए रखने को एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए आशा जताई कि इससे शिक्षा क्षेत्र में आ रहे आर्थिक संकट दूर होंगे तथा शिक्षा के व्यापक प्रसार व गुणवत्ता उन्नयन में सहायता मिलेगी। प्रो.दशोरा ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम शिक्षा मंत्रालय रखे जाने पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि मनुष्य को एक संसाधन (रिसॉर्स) की दृष्टि से देखना उचित नहीं था। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति का 5-3-3-4 का मॉडल तथा प्राथमिक शिक्षा मातृभाषा में देने का प्रावधान भारतीय भाषाओं के विकास के साथ विद्याार्थियों को सक्षम, स्वाभिमानी एवं कुशल बनाने में सहायक होगा। उच्च शिक्षा को एक ही रेग्यूलेटरी बोर्ड से नियंत्रित करने के साथ ही 21वीं सदी की आवश्यकताओं के अनुरूप किय गए बदलाव उच्च शिक्षा की गुणवत्ता, ग्राह्यता तथा उपादेयता में अभिवृद्धि करेंगे। विधि व मेडिकल कॉलेजों को छोडक़र शेष उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश परीक्षा के लिए कॉमन प्रवेश परीक्षा से युवाओं को राहत मिलेगी साथ ही समय, धन व श्रम की बचत होगी। सत्र 2030 तक शिक्षक शिक्षा को धीरे-धीरे बहुविषयक महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में बदलने व शिक्षण के लिए न्यूनतम डिग्री योग्यता 4 वर्षीय एकीकृत बीएड डिग्री की आवश्यकता के प्रावधान का भी प्रो. दशोरा ने स्वागत किया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में व्यावसायिक पाठ्यक्रम व शिक्षा में प्रौद्यौगिकी के एकीकरण पर किए गए प्रावधान भी आज की जरूरत के अनुसार हैं। महाविद्यालय व विश्वविद्यालय स्तर पर अन्तरविषयक अध्ययन व रुचि अनुसार विषय चयन क्रांतिकारी परिवर्तन करने वाले सिद्ध होंगे। इसी प्रकार शोध के क्षेत्र में सकारात्मक प्रावधान शोध की गुणवत्ता बढ़ाने में सहायक होंगे। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीता कौशल / ईश्वर-hindusthansamachar.in