end-of-national-road-safety-month-not-only-revenue-collection-safety-of-drivers-is-also-our-responsibility-transport-minister
end-of-national-road-safety-month-not-only-revenue-collection-safety-of-drivers-is-also-our-responsibility-transport-minister
राजस्थान

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का समापन: राजस्व वसूलना ही नहीं,वाहन चालकों की सुरक्षा भी हमारी जिम्मेदारी: परिवहन मंत्री

news

जयपुर,17 फरवरी (हि.स.)। 18 जनवरी से 17 फरवरी तक आयोजित हुआ राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह-2021 के राज्य स्तरीय समापन समारोह जवाहर लाल नेहरू मार्ग स्थित ओटीएस के भगवत सिंह मेहता सभागार में आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि राज्य सरकार व परिवहन विभाग का मकसद वाहन संचालकों से राजस्व वसूली करना ही नहीं है, बल्कि उनकी सुरक्षा करना भी है। मुख्यमंत्री से लेकर विभाग के उच्चाधिकारी भी लगातार जुटे हुए है। प्रदेश के दुर्घटना स्थलों (ब्लैक स्पॉट) को ठीक करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिये है। उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि सड़क पर घायलों की मदद को आगे आये, ताकि हर एक जीवन सुरक्षित रह सके। वहीं आयोजित हुए समारोह में उन्होंने सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाली संस्थाओं, व्यक्तियों को सम्मानित भी किया। इस दौरान परिवहन मंत्री ने कहा कि राज्य सड़क सुरक्षा परिषद के फंड से सड़क सुरक्षा के लिए कैमरे लगायेंगे। यातायात पुलिसकर्मियों से कहा कि सड़क पर नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने से पहले समझाइश करें। साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस जरूर कमजोर पड़ा है, लेकिन अभी भी अलर्ट रहना होगा। एनएचएआई पर सख्ती करें केंद्र सरकार परिवहन मंत्री ने कहा कि सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं हाईवे पर होती है। टोल कंपनियां टोल फीस तो पूरी वसूल करती है, लेकिन हाईवे को सुगम बनाने में लापरवाही बरतती है। इसके लिए केंद्र सरकार सख्ती बरतते हुए एनएचएआई की जिम्मेदारी तय कर सुधार कराये। कॉलोनियों में दुर्घटनाएं रोकने के लिए नगर निगम और जयपुर विकास प्राधिकरण स्पीड ब्रेकर लगाये। यातायात पुलिसकर्मी मोबाइल एप ’एम-परिवहन’ और ’वाहन पोर्टल’ पर अपलोड दस्तावेजों को भी वैध मानें। वाहन फिटनेस के समय होगी आंखों की जांच खाचरियावास ने कहा कि ट्रोले संचालित करने वाली बड़ी कंपनियों के साथ बैठक करेंगे। उनके ट्रोले चालकों को सड़क सुरक्षा के नियमों का प्रशिक्षण देंगे। साथ ही अब कॉमर्शियल वाहनों के फिटनेस के दौरान वाहन चालकों की आंखों की जांच भी कराएंगे। उन्होंने कहा कि लोगों की जान से बड़ा पैसा नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में बीआरटीएस को हटाने की निर्णय लिया गया है। इससे भी यातायात में सुगमता आयेगी। परिवहन मंत्री ने कहा कि महिला यात्रियों की सुरक्षा दुष्टि से प्रदेश की बसों में जल्द ही पैनिक बटन लगायेंगे। संबंधित कंपनियों का प्रस्तुतीकरण हो गया है। रोडवेज और निजी बस चालकों की जिम्मेदारी होनी चाहिए कि रास्ते में कही भी एकल महिला बस इंतजार में दिखे तो उसे जरूर बैठाये। चाहे उस जगह बस स्टैंड नहीं भी हो। समारोह की शुरूआती संबोधन में परिवहन आयुक्त एवं शासन सचिवरवि जैन ने कहा कि महिनेभर चले अभियान से आमजन में जागृति आई है। एक भी व्यक्ति की जान ना जाये, ये सभी विभागों की जिम्मेदारी है। सड़क सुरक्षा के लिए जल्द ही नवाचार करेंगे। दुर्घटना स्थलों को सुधारने का भी काम कर रहे है। मददगारों का हुआ सम्मान समापन समारोह के दौरान सड़क सुरक्षा जागरूकता और सड़क पर घायलों को बचाने वालों को अतिथियों ने सम्मानित किया। इनमें राज्य स्तर, जिला स्तर के अधिकारी-कर्मचारी, विभिन्न संस्थाओं, ड्राइविंग स्कूल संचालकों, रंगमंच कलाकारों सहित अन्य विशेष व्यक्तियों को प्रशस्ति पत्रा और मोमेंटो से पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर जिला परिवहन अधिकारी रवींद्र जोशी के साथ विभाग के कर्मचारियों ने ’सड़क के भले मददगार’ नाटक का मंचन कर नियमों की पालना करने का संदेश दिया। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर-hindusthansamachar.in