जैन समाज के लिए दुष्प्रचार करने वाले अनोप मण्डल को प्रतिबंधित करने की मांग

जैन समाज के लिए दुष्प्रचार करने वाले अनोप मण्डल को प्रतिबंधित करने की मांग
demand-to-ban-anop-mandal-who-spreads-propaganda-for-jain-society

उदयपुर, 09 जून (हि.स.)। जैन समाज ने राजस्थान के एक संगठन अनोप मण्डल को तुरंत प्रतिबंधित करने की मांग की है। इस संगठन पर पूर्व में भी कई बार कानूनी कार्रवाई हो चुकी है। अनोप मण्डल पर आरोप है कि यह अपनी शुरुआत से ही जैन समाज के सम्बंध में दुष्प्रचार करता रहा है और जैन साधुओं पर भी मिथ्या दोषारोपण करता रहता है। पूर्व में भी इन आरोपों का कोई वैज्ञानिक, व्यावहारिक व शास्त्रोक्त आधार साबित नहीं हुआ। इसके बावजूद इस सगंठन के पदाधिकारी बाज नहीं आ रहे हैं। अखिल भारतीय दिगम्बर जैन दसा नरसिंहपुरा संस्थान की ओर से उदयपुर में मंगलवार को जिला कलेक्टर के मार्फत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को ज्ञापन देकर अनोप मण्डल पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाने की मांग की गई। अध्यक्ष अशोक कुमार नश्नावत ने बताया कि अनोप मण्डल के कुछ सदस्य अपने निजी हित एवं स्वार्थपूर्ति के लिए लोगों को बहला फुसलाकर उन्हें भड़काकर जैन-वैश्य समाज के प्रति वैमनस्यता फैला रहे हैं। यह कुछ राष्ट्र विरोधी शक्तियां है जो भारत की एकता, अखण्डता एवं धर्म निरपेक्षता को खण्ड-खण्ड करने पर आमादा होकर धार्मिक एवं सामाजिक सौहार्द व शांति को बिगाड़ने में लगी हैं। महामंत्री लक्ष्मीलाल बोहरा ने कहा कि जैन समाज ’’अहिंसा परमोधर्म’’ की भावना के साथ सभी जनमानस एवं प्राणीमात्र के प्रति दया, करुणा एवं सहयोग की भावना रखता है, इसका ज्वलंत उदाहरण यह है कि वैश्विक महामारी कोविड 2019 में सम्पूर्ण जैन समाज के कई संगठनों ने तन-मन-धन से सेवाएं दी और दानवीर श्रेष्ठियों एवं समाजों ने धन का दान सर्वसमाज हितार्थ एवं राष्ट्र निर्माण में देकर एक अहम भूमिका अदा की। समाज ने ज्ञापन में अनुरोध कि कि ऐसे अवैधनिक एवं राष्ट्र द्रोही संगठन को शीघ्र प्रतिबंधित किया जाए और दोषियों के विरुद्ध सीबीआई जांच करा कठोरतम कार्यवाही की जाए। साथ ही, साधु संतों को सुरक्षा प्रदान कराते हुए जैन समाज को भी सुरक्षा एवं संबल प्रदान किया जाए। ज्ञापन देने वालों में सुमति प्रकाश वालावत, शीतल कुमार डूंगरिया, हेमंत वागावत, आनंद भादावत, श्रीपाल धर्मावत, प्रकाश सिंघवी आदि शामिल थे। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीता कौशल/संदीप