कांस्टेबल ने पर्स लौटाकर दिया ईमानदारी का परिचय

कांस्टेबल ने पर्स लौटाकर दिया ईमानदारी का परिचय
constable-showed-honesty-by-returning-purse

जयपुर, 04 मई (हि.स.)। राजधानी जयपुर के कमिश्नरेट की पुलिस लाइन में पदस्थापित पुलिस कांस्टेबल ने बस में मिले पर्स को उसके मालिक को लौटाकर ईमानदारी का परिचय दिया है। अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त आलोक सिघंल ने बताया कि कमिश्नरेट की पुलिस लाइन में पदस्थापित कांस्टेबल चन्द्रभान ने बस में मिले पर्स को उसके मालिक का लौटाकर ईमानदारी का परिचय दिया। कांस्टेबल चन्द्रभान मंगलवचार सुबह आठ बजे रोड़वेज बस से उतरकर अपनी ड्यूटी पर आ रहा था। बस से उतरते समय उसे एक पर्स मिला, बस में बैठे यात्रियों को पर्स के बारे में पूछा तो किसी भी यात्री ने अपना पर्स नहीं होना बताया। कांस्टेबल चन्द्रभान को पर्स में रखी डायरी में अजय कुमार नामक व्यक्ति के मोबाइल नम्बर मिले। चन्दभान ने मोबाइल से सम्पर्क किया तो अजय कुमार ने बताया कि रोहिताश गुर्जर उसका दोस्त है जिसके मोबाइल नम्बर 6377169942 है। जिस पर सम्पर्क कर बस में मिले पर्स के बारे में बताकर तस्दीक की तो रोहिताश गुर्जर ने बताया कि उसकी वोटर आईडी, आधार कार्ड, आईसीआईसीआई बैंक का एटीएम, फोटो, डायरी व करीब 27 सौ रूपये पर्स में रखे थे। जो गांव से जयपुर आते समय बस में पर्स जेब में से गिर गया। इस पर उसे बताया गया कि वह कांस्टेबल चन्द्रभान पुलिस लाईन आयुक्तालय जयपुर में पदस्थापित है वह अपना पर्स पुलिस लाईन में आकर प्राप्त कर ले। जिस पर रोहिताश गुर्जर निवासी अचलपुरा रोड़ पन्ना की ढाणी रामगढ़ जिला दौसा ने पुलिस लाईन में उपस्थित होकर अपनी आईडी पेश की। इसके आधार पर रोहिताश गुर्जर को उसका पर्स मय वोटर आईडी, आधार कार्ड, आईसीआईसीआई बैंक का एटीएम, फोटो, डायरी व करीब 27 सौ रूपये सुपुर्द कर रसीद प्राप्त की गई। जिस पर रोहिताश गुर्जर ने कांस्टेबल चन्द्रभान सहित समस्त पुलिसकर्मियों का धन्यवाद ज्ञापित किया। कांस्टेबल चन्द्रभान द्वारा ईमानदारी का परिचय दिया है इस सराहनीय कार्य से पुलिस की ईमानदारी एवं कत्र्तव्यनिष्ठता परिलक्षित हुई है। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर