दौसा में कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान पुराने चेहरे गायब

दौसा में कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान पुराने चेहरे गायब
दौसा में कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान पुराने चेहरे गायब

दौसा, 25 जुलाई (हि.स.)। प्रदेश में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच शनिवार को दौसा में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन किया। लेकिन धरने से कांग्रेस पूर्व जिलाध्यक्ष समेत डीसीसी के दर्जनों पदाधिकारी गायब रहे। उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा के पुत्र कमल मीणा के नेतृत्व में आयोजित हुए धरने में डीसीसी के कुछेक पदाधिकारियों समेत दर्जनों नए चेहरे देखे गए। कांग्रेस नेताओं का कहना था कि भाजपा गहलोत सरकार को गिराने के लिए षड्यंत्र रच रही है। जिला कलेक्ट्रेट के बाहर हुए कांग्रेसियों के इस प्रदर्शन में सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ती नजर आई। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के निर्देश पर कांग्रेसी एकत्रित हुए और भाजपा के खिलाफ नारेबाजी की। दरअसल, सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री व प्रदेशाध्यक्ष से हटाए जाने के बाद कांग्रेस जिला रामजीलाल ओढ़ समेत जिला कांग्रेस कमेटी के दो दर्जन पदाधिकारियों ने इस्तीफे दे दिए थे। ऐसे में शनिवार को कांग्रेस के धरने में गहलोत गुट के मंत्री परसादीलाल मीणा व ममता भूपेश समर्थक शामिल हुए। वहीं सचिन पायलट के विश्वस्त माने जाने वाले महुवा से विधायक प्रत्याशी अजय बोहरा ने भी धरने में शामिल होकर सबको चौंका दिया। इस प्रदर्शन में कांग्रेसियों के चेहरे बदले हुए नजर आए। पहले के आंदोलनों में जो कांग्रेसी प्रमुखता से दिखाई देते थे, वे आज दिखाई नहीं दिए। वहीं कुछ नए और पुराने कांग्रेसियों ने इस प्रदर्शन में भाग लिया। धरने में वक्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी पर कई आरोप लगाए और कहा कि केंद्र सरकार द्वारा गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है। इसके बाद कांग्रेसियों ने अतिरिक्त जिला कलेक्टर लोकेश मीना को राज्यपाल और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर विधानसभा सत्र बुलाने की मांग रखी। वहीं राज्यपाल द्वारा सत्र नहीं बुलाने पर कांग्रेसियों ने सीधे शब्दों में चेतावनी दी कि यदि पार्टी की मांग नहीं मानी गई तो सभी कांग्रेसी जयपुर कूच करेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/राघवेन्द्र / ईश्वर-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.