मुख्यमंत्री जी जंगल में पहुंचा दिया आपने प्रदेश को: शेखावत

 मुख्यमंत्री जी जंगल में पहुंचा दिया आपने प्रदेश को: शेखावत
chief-minister-you-have-brought-the-state-to-the-forest-shekhawat

जोधपुर, 11 जून (हि.स.)। राजस्थान में बढ़ती आपराधिक घटनाओं को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर भी निशाना साधा है। शेखावत ने कहा कि लूट, डकैती, फिरौती, अत्याचार, दुष्कर्म, हत्या और नरसंहार, यही है गहलोत सरकार। गहलोत जी के राज में राजस्थान में लोकतंत्र का नामोनिशान मिट गया है। कभी लगता है ये अपराध सबसे बड़ा है, और उस ही क्षण एक और वीभत्सता हो जाती है। गहलोत जी जंगल में पहुंचा दिया आपने प्रदेश को। हनुमानगढ़ में दलित युवक की पीट-पीटकर हत्या पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए शेखावत ने कहा कि संविधान निर्माता बाबासाहेब अंबेडकर के अनुयायी की निर्मम हत्या, वो भी इसलिए क्योंकि उसने उनकी जयंती मनाई थी और पोस्टर लगाए थे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गहलोत जी जंगल में पहुंचा दिया आपने प्रदेश को। कानून और पुलिस नदारद है। हर जगह अपराधी हैं और उनके आगे आप खड़े हैं। एक बयान नहीं निकलता आपके मुख से अपराधियों के ख़िलाफ़, भरोसा तक नहीं दिला सकते आप डरे हुए जनमानस को। शेखावत ने कहा कि मुझे डर है कांग्रेस का फैलाया जातिवाद-संप्रदायवाद राजस्थान में स्थाई जगह न बना ले। कांग्रेस में कुर्सी इंसान की जान से ज्यादा बड़ी है और वो जहां सत्ता में हो वहां खूनी खेल रोज का समाचार हो जाता है। इस घटना के पीछे घृणित राजनीति का हाथ होने से इनकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी दूसरे प्रदेशों के आंकड़े गिनाते हैं और राजस्थान के मामले में मुंह सी लेते हैं। अपराधों का सैलाब आ गया महिलाओं पर बढ़ते अपराधों पर शेखावत ने कहा कि अपराध के आंकड़ों का सैलाब आ गया और मुखिया जी की पलक भी नहीं झपकी। हाईवे, अस्पताल, और अब स्कूल में छठी कक्षा की छात्रा के साथ दुष्कर्म। राजस्थान में ऐसा कौन सा दिन है, जब ऐसा कोई समाचार न मिले। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इन बेटियों का अपराध सिर्फ इतना है कि इन्होंने राज्य की कानून व्यवस्था पर भरोसा किया। इन्होंने स्कूल में पढऩे, अस्पताल में काम करने या घर से बाहर निकलने का साहस किया। इन्होंने एक विफल मुखिया के राज्य में अपना जीवन जीने का प्रयास किया। ये कैसा जंगल राज फैला है? कहां है कानून का डर? क्या कर रहा है प्रशासन? किसकी जवाबदेही है? कौन जिम्मेदारी लेगा? हिन्दुस्थान समाचार/सतीश/संदीप