राजस्थान में 15 अगस्त के कार्यक्रमों से दूर रहेंगे विद्यार्थी, सेनानी व वरिष्ठ नागरिक
राजस्थान में 15 अगस्त के कार्यक्रमों से दूर रहेंगे विद्यार्थी, सेनानी व वरिष्ठ नागरिक
राजस्थान

राजस्थान में 15 अगस्त के कार्यक्रमों से दूर रहेंगे विद्यार्थी, सेनानी व वरिष्ठ नागरिक

news

जयपुर, 30 जुलाई (हि. स.)। राजस्थान में इस साल स्वाधीनता दिवस समारोह कोरोना की गाइडलाइन के साये में मनेगा। यह पहली बार होगा जब छात्र-छात्राओं, स्वतंत्रता सेनानियों और वरिष्ठ नागरिकों को समारोह से दूर रखा जाएगा। केन्द्र सरकार की ओर से जारी की गई अनलॉक 3.0 के दिशानिर्देशों की पालना में सामान्य प्रशासन (ग्रुप-1) विभाग के विशिष्ट शासन सचिव डॉ. मोहनलाल यादव ने गाइडलाइन जारी की है। इसमें जयपुर जिले को छोडक़र प्रदेश के अन्य संभागीय आयुक्तों व जिला कलक्टरों को 15 अगस्त मनाने के संबंध में दिशानिर्देश दिए गए हैं। प्रदेश में 15 अगस्त के कार्यक्रमों में यह पहली बार होगा जब बुजुर्गों और बच्चों को कार्यक्रम में नहीं बुलाया जाएगा। कार्यक्रम में शारीरिक दूरी, मास्क, थर्मल स्केनिंग, हैण्ड सैनेटाइजेशन की अनिवार्यता लागू रहेगी। कार्यक्रम में कोरोना वॉरियर्स के रूप में पुलिसकर्मियों, चिकित्साकर्मियों, सफाईकर्मियों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व आशा सहयोगिनियों को आमंत्रित किया जाएगा। सांस्कृतिक कार्यक्रम की थीम कोरोना आधारित रखी जाएगी। हमेशा की तरह इस बार भी सरकारी भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। जयपुर के राज्यस्तरीय समारोह को छोडक़र प्रदेश में सभी स्थानों पर प्रभारी मंत्री झंडारोहण करेंगे। उनकी अनुपस्थिति में संभागीय आयुक्त या कलक्टर ध्वज फहराएंगे। राष्ट्रीय पर्व समारोहपूर्वक मनेगा। यानी परेड व व्यायाम प्रदर्शन होगा, राज्यपाल का संदेश पढ़ा जाएगा, सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे, लेकिन छात्र-छात्राओं को नहीं बुलाया जाएगा। कार्यक्रम में विभिन्न समुदायों के लोगों को आमंत्रित किया जाएगा, लेकिन वरिष्ठ नागरिकों को कार्यक्रम से दूर रखा जाएगा। सांसदों-विधायकों व जिलों में निवासरत शहीदों के परिवारों को बुलाया जाएगा, लेकिन स्वतंत्रता सैनानी और वरिष्ठ नागरिकों को समारोह से दूर रखा जाएगा। इस बार उनके निवास पर शुभकामना संदेश भेजा जाएगा। उपखंड स्तरीय समारोह में उपखंड अधिकारी तथा पंचायत मुख्यालयों पर सरपंच ध्वज फहराएंगे। जिन स्थानों पर आगामी दिनों में चुनाव प्रस्तावित हैं, वहां उच्च स्तर के सरकारी स्कूल का प्रधानाध्यापक या प्रधानाचार्य ध्वज फहराएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संंदीप-hindusthansamachar.in