राजस्थान में एम्बुलेंस किराया अब शुरुआती 10 किमी तक साढ़े बारह, उसके बाद 18 रुपये किमी तक देय

राजस्थान में एम्बुलेंस किराया अब शुरुआती 10 किमी तक साढ़े बारह, उसके बाद 18 रुपये किमी तक देय
ambulance-fare-in-rajasthan-is-now-twelve-and-a-half-till-the-initial-10-km-then-payable-up-to-rs-18-km

जयपुर, 26 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना संक्रमण की महामारी के बीच राज्य के विभिन्न जिलों में संक्रमित मरीजों की मौत के बाद शव को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एम्बुलेंस की दरों में भिन्नता पाए जाने के बाद परिवहन विभाग ने रविवार को इस संबंध में नई दरें तय की है। इसके तहत प्रथम दस किलोमीटर तक पांच सौ रुपये (आना-जाना शामिल) तथा इसके बाद मारुति वैन, मार्शल या मैक्स वाहन में 12.50 रुपये, टवेरा-इनोवा, बोलेरो, क्रूजर या रायनो आदि के लिए 14.50 रुपये तथा अन्य बड़ी एम्बुलेंस या शव वाहन के लिए 17.50 पैसे प्रति किलोमीटर किराया लिया जा सकेगा। परिवहन आयुक्त महेन्द्र सोनी ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। उन्होंने बताया कि मोटर यान अधिनियम 1988 के तहत एम्बुलेंस को परिवहन यान श्रेणी में रखा गया हैं, जबकि एम्बुलेंस यान को इस अधिनियम के प्रावधानों के तहत करदेयता से मुक्त रखा गया है। इससे यह साफ होता है कि एम्बुलेंस यान व्यावसायिक श्रेणी में नहीं होकर सामाजिक सेवा यान माना गया है। कोरोना महामारी को देखते हुए इन सेवाओं की सर्वोच्च आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि 30 जून 2015 को इन वाहनों के किराया निर्धारण के लिए जिला कलक्टरों के माध्यम से यातायात प्रबंधन समिति, यातायात नियंत्रण बोर्ड के माध्यम से प्रादेशिक परिवहन अधिकारी, जिला परिवहन अधिकारी को निर्देशित किया गया था। इस संबंध में विभिन्न जिलों में समय-समय पर अधिसूचनाएं जारी की गई है, जिनकी दरों में भिन्नताएं पाई गई हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में महामारी के भयावह दौर में आमजन को सस्ती व सुलभ एम्बुलेंस सेवा उपलब्ध कराने के लिए एम्बुलेंस सेवाओं की दरों में एकरूपता लाने के लिए प्रादेशिक व जिला परिवहन अधिकारियों द्वारा जारी आदेशों को अतिक्रमित करते हुए एम्बुलेंस यान के किराये का निर्धारण किया गया है। उन्होंने बताया कि अब प्रथम दस किलोमीटर तक पांच सौ रुपये (आना-जाना शामिल) तथा इसके बाद मारुति वैन, मार्शल या मैक्स वाहन में 12.50 रुपये, टवेरा-इनोवा, बोलेरो, क्रूजर या रायनो आदि के लिए 14.50 रुपये तथा अन्य बड़ी एम्बुलेंस या शव वाहन के लिए 17.50 पैसे प्रति किलोमीटर किराया लिया जा सकेगा। एसी वाहन होने पर एक रुपये प्रति किमी अतिरिक्त शुल्क तथा कोरोना के मरीज या शव को लाने-ले जाने के लिए एम्बुलेंस चालक की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पीपीई किट व सैनेटाइजेशन व्यय के रूप में प्रति चक्कर 350 रुपये अतिरिक्त लिए जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस या शव वाहनों का किराया दोनों तरफ का देय होगा। ये वाहन वापसी यात्रा में उपयोग नहीं लिए जा सकते हैं, इसलिए दस किमी से अधिक चलने पर ऐसे चालकों को दोनों तरफ का किराया दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन दरों की गणना 91 रुपये प्रति लीटर डीजल की दर मानकर की गई है। ये दरें डीजल की दर 91 रुपये होने तक देय रहेगी। इसके बाद डीजल की वृद्धि दी में बीस पैसे प्रति रुपया की दर में किराये में वृद्धि की जा सकेगी। किसी भी वाहन का रात्रि किराया देय नहीं होगा। एम्बुलेंस चालकों को आवश्यक चिकित्सा यंत्र उपलब्ध कराने के लिए बाध्यकारी रहना होगा। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर