प्रशासन की मेहनत लाई रंग, 13 हजार 512 कोविड संबंधित लक्षणों वाले हुए चिन्हित

प्रशासन की मेहनत लाई रंग, 13 हजार 512 कोविड संबंधित लक्षणों वाले हुए चिन्हित
administration39s-hard-work-brought-color-identified-13-thousand-512-kovid-related-symptoms

डूंगरपुर, 13 मई (हि.स.)। ‘मेरा वार्ड-मेरा गांव-मेरा जिला कोरोना मुक्त’ अभियान के तहत प्रशासन ने सघन अभियान चलाते हुए विगत चार दिनों में 13 हजार 512 कोविड संबंधित प्रारंभिक लक्षण वाले लोगों को चिन्हित किया है। जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओेला ने बताया कि अमूमन देखने में आ रहा था कि जिले में लोग कोरोना होने पर या तो छुपाते है अथवा प्रारंभ के चार-पांच दिनों तक लापरवाह बने रहते है, जिससे संक्रमण गंभीर स्थिति में पहुंच जाता है और जब ऑक्सीजन लेवल 40 से 50 होने पर चिकित्सालय पहुंचते है तब तक गंभीर स्थिति हो जाती है। ऐसे में जिला प्रशासन के द्वारा जिले में चिकित्सा आपके द्वारा अभियान तथा इसकी धरातलीय क्रास चैकिंग कराते हुए चार दिन का सघन अभियान चलाया गया। इस अभियान का उद्देश्य ऐसे लोग जो प्रारंभिक लक्षण के बावजूद चिकित्सालय नही पहुंच रहे है अथवा लापरवाह बने हुए है, ऐसे लोगों को चिन्हित कर गंभीर संक्रमण की ओर जाने से बचाना तथा समय पर चिकित्सा उपलब्ध करवाना था। इसके साथ ही बाहर से आये प्रवासियों को होम क्वारेंटीन कर प्रभावी मॉनिटरिंग करना, अधिक लक्षणों वालों को चिकित्सालय तक पहुंचाना तथा प्रारंभिक लक्षणों वालों को होम क्वारेंटीन करना था। ओला ने अभियान की सफलता के लिए विभिन्न स्तरों पर अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों, सरपंच, वार्ड पंच एवं कोर कमेटियों के साथ विडियो कॉन्फ्रेस करते हुए संवाद किया तथा सभी को समेकित प्रयास करते हुए अपने जिले को कोरोना से मुक्त कराने एवं लगातार बढ रहे संक्रमण को रोकने की दिशा में मिलकर प्रयास करने के लिए आह्वान के साथ प्रेरित किया। चार दिन सघन अभियान, 838 टीमें पहुंची गांव-गांव :- अभियान के इस उद्देश्य को पूरा करने हेतु जिले में कुल 838 टीमें लगाई गई तथा इन टीमों में नियुक्त अधिकारियों-कर्मचारियों द्वारा गांव-गांव कोर कमेटियों, सरपंच, वार्डपंच, पीईईओ, एएनएम से समन्वय स्थापित कर चैक लिस्ट के आधार पर प्रभावी मॉनिटरिंग की गई। उन्होंने बताया कि इसके अन्तर्गत 3 लाख एक हजार 779 घरों के 16 लाख 32 हजार 569 सदस्यों का सर्वे किया गया। सर्वे की सत्यता जांच के लिए 30 अधिकारियों को प्रभारी नियुक्त करते हुए चार दिन क्रास चैक का सघन अभियान चलाया गया। परिणामस्वरूप ऐसे 13 हजार 512 कोविड लक्षणों से संबंधित लोगों तक प्रशासन की सीधे पहुंच बनी तथा प्रशासन द्वारा ऐसे चिन्हित लोगों को प्रारम्भिक लक्षणों के आधार पर ही तत्काल समय पर कुल 22 हजार 560 मेडिकल कीट उपलब्ध करवाये गये। इस अभियान से समय पर चिन्हित संक्रमितों को दवाई उपलब्ध होने से इनके गंभीर संक्रमण को रोकने के सार्थक प्रयास किये जा सकें। कोरोना होने पर प्रारम्भिक लक्षण से फर्स्ट डे हैल्थ केयर शुरू कर दे, लापरवाह नहीं बने। कोविड डेडिकेटेड चिकित्सालय में कुल 305 बेड में से 155 बेड यानि अब 52 प्रतिशत बेड खाली है। इसी अभियान के अगले चरण में शुक्रवार से पुनः इन चिन्हितों का फॉलोअप लिया जाएगा तथा इसके बाद पुनः रणनीति बनाई जाएगी। हिंदुस्थान समाचार / संतोष व्यास/ ईश्वर

अन्य खबरें

No stories found.