जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने की मेजर प्रोजेक्ट्स के कार्यों की प्रगति की समीक्षा

जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने की मेजर प्रोजेक्ट्स के कार्यों की प्रगति की समीक्षा
additional-chief-secretary-of-water-supply-department-reviewed-the-progress-of-the-works-of-major-projects

जयपुर, 04 मई (हि.स.)। जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) सुधांश पंत ने मंगलवार को प्रदेश में जल जीवन मिशन (जेजेएम) के तहत मेजर प्रोजेक्ट्स के तहत प्रदेश के गांवों में हर घर नल कनैक्शन देने के लिए चल रहे कार्यों की वीडियो कांफ्रेंसिंग से समीक्षा की। अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य स्तरीय योजना स्वीकृति समिति (एसएलएससी) की गत बैठकों में मेजर प्रोजेक्ट्स के तहत जो कार्य स्वीकृत किए गए है, उनको आगे बढ़ाने के लिए प्रोजेक्ट विंग के अधिकारी टाइमलाइन तय करते हुए क्रियान्वयन का पूरा शेड्यूल निर्धारित करे और उसे फालो करते हुए तकनीकी स्वीकृतियां, निविदाएं और कार्यादेश आदि जारी करने का काम मुस्तैदी से पूरा करे, ये काम कार्यालय स्तर पर ही सम्पादित किए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिन प्रोजेक्ट्स में डीपीआर तैयार करने सहित अन्य काम एजेंसी के माध्यम से कराए जा रहे वे समय पर पूरे हो इसके लिए अधिकारी सतत समनवय और मॉनिटरिंग करे। वीसी में बताया गया कि गत एसएसएससी की बैठकों में प्रदेश के 12 हजार 528 गांवों में हर घर नल कनैक्शन के लिए 101 मेजर प्रोजेक्ट्स के कार्यों की स्वीकृतियां जारी की गई है। वृहद परियोजनाओं के तहत करीब 4300 गांवों के सभी घरों में नल से जल कनैक्शन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में मेजर प्रोजेक्ट्स के तहत 12 लाख घरों में नल से जल कनैक्शन देने का लक्ष्य है, इसमें नागौर प्रोजेक्ट्स के तहत 66 हजार तथा एनआरडब्ल्यू प्रोजेक्ट में भीलवाड़ा और अजमेर में भी 3.5 लाख हर घर नल कनैक्शन शामिल है। नए वित्तीय वर्ष के प्रथम माह में अब तक 17 प्रोजेक्ट्स की तकनीकी स्वीकृतियां जारी की गई है। मई माह में 34 तकनीकी स्वीकृतियां, 33 डीपीआर और 15 प्रोजेक्ट्स के कार्यों की निविदाएं जारी करने की योजना है। एसीएस ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत मेजर प्रोजेक्ट्स में जिन कार्यों की स्वीकृतियां जारी हुई है, उनमें 'वाटर रिजर्वेशन' का कार्य बहुत महत्त्वपूर्ण है। ऐसे प्रोजेक्ट्स जिनके लिए जल संसाघन विभाग से 'टाईअप' करते हुए 'वाटर रिजर्वेशन' की आवश्यकता है, उनके प्रस्ताव तैयार करके भेजे जाए ताकि जलदाय विभाग द्वारा राज्य स्तर पर जल संसाधन विभाग के साथ बैठक आयोजित कर अग्रिम कार्यवाही की जा सके। उन्होंने कहा कि अधिकारी प्रोजेक्ट्स से जुड़े ऐसे सभी महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर व्यक्तिगत ध्यान दे ताकि उनका सफल क्रियान्वयन सुनिश्चित हो सके। पंत ने वीसी में ईसरदा बांध से सम्बंधित पेयजल परियोजनाओं की तकनीकी स्वीकृतियां समय पर जारी करने के साथ ही भूमि अधिग्रहण आदि से सम्बंधित कार्यो के लिए जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के साथ सतत समन्वय के निर्देश दिए। इसके अलावा मई माह में प्रस्तावित एसएलएससी की बैठक के लिए भी सभी रीजन से बकाया कार्यों की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति के प्रस्ताव तैयार कर शीघ्रता से भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने मेजर प्रोजेक्ट्स के तहत जल जीवन मिशन के अलावा लम्बित परियोजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की और इंदिरा गांधी नहर परियोजना से जुड़े जिलों में नहरबंदी से प्रभावित क्षेत्रों में पेयजल प्रबंधन के बारे में भी अधिकारियों से फीडबैक लिया। वीसी में जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के प्रदेश मुख्यालय जल भवन से मुख्य अभियंता (विशेष प्रोजेक्ट्स) दिलीप गौड़, मुख्य अभियंता (तकनीकी) संदीप शर्मा तथा जिला एवं क्षेत्रीय मुख्यालयों से मुख्य अभियंता (नागौर) दिनेश गोयल, मुख्य अभियंता (जोधपुर) नीरज माथुर के अलावा प्रोजेक्ट विंग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता और अधीक्षण अभियंता स्तर के अधिकारियों ने शिरकत की। हिन्दुस्थान समाचार/ ईश्वर/संदीप