7-vaccine-dose-in-rajasthan-is-poor-churu-wastes-maximum-3937
7-vaccine-dose-in-rajasthan-is-poor-churu-wastes-maximum-3937
राजस्थान

राजस्थान में 7 फीसदी वैक्सीन की डोज खराब, चूरू में सर्वाधिक 39.37 प्रतिशत की बर्बादी

news

जयपुर, 22 मई (हि.स.)। कोरोना महामारी से आमजन को सुरक्षित रखने के लिए राजस्थान में शुरू किए गए वैक्सीनेशन कार्यक्रम में अबतक 1 करोड़ 56 लाख 77 हजार 180 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। प्रदेश में 16 जनवरी से शुरू हुआ वैक्सीनेशन कार्यक्रम वैक्सीन की कमी के कारण अब थोड़ा धीमा हुआ है, लेकिन इस बीच वैक्सीन की डोज बर्बाद होने की शिकायतें भी सामने आ रही है। चिकित्सा विभाग के पास मौजूद आंकड़ों के अनुसार अब तक पूरे प्रदेश में 7 फीसदी वैक्सीन की डोज खराब हुई है। इसमें सर्वाधिक 39.37 प्रतिशत की बर्बादी चूरू जिले में हुई है। प्रदेश भर में 16 जनवरी को कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी। अब तक डेढ़ करोड़ से अधिक लाभार्थियों को राजस्थान में वैक्सीन लगाई जा चुकी है। अभी प्रदेश में 18 से 44 साल की आयु के लाभार्थियों को भी वैक्सीन लगाई जा रही है, लेकिन इसी बीच वैक्सीन की डोज भी बर्बाद हो रही है। चिकित्सा विभाग की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में सबसे अधिक चूरू जिले में वैक्सीन की डोज खराब हुई है। अब तक चूरू जिले में 39.37, हनुमानगढ़ में 24.60, भरतपुर में 17.13, कोटा में 16.71, चित्तौडग़ढ़ में 11.81, जालोर में 9.63, सीकर में 8.83, अलवर में 8.32, धौलपुर में 7.89, अजमेर में 6.75, दौसा में 6.65, सवाई माधोपुर में 6.43, झालावाड़ में 6.31 प्रतिशत डोज खराब हो चुकी है। इसी तरह बूंदी में 5.81, बाड़मेर में 5.78, नागौर में 5.43, बीकानेर में 5.07, जयपुर प्रथम में 4.67, करौली में 4.59, टोंक में 4.36, डूंगरपुर में 3.41, बारां में 3.38, पाली में 2.92, जोधपुर में 2.75, राजसमंद में 2.07, भीलवाड़ा में 1.72, प्रतापगढ़ में 1.36, सिरोही में 1.33, जयपुर द्वितीय में 1.31 प्रतिशत डोज अब तक खराब हो चुकी है। राजस्थान में अब तक एक करोड़ 56 लाख 77 हजार 180 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर